June 9, 2023
0
(0)

स्वामी और भिक्षु

हिंदू धर्म में माना गया है की आत्मा का परम धन है स्वयं का ज्ञान | इसी स्वयं के ज्ञान को योगीजन आत्म ज्ञान और परम ज्ञान कहते हैं| यह परम ज्ञान समाधि की परम अवस्था में उपलब्ध होता है और आत्मा की अमिट धरोहर होती है| इस आत्मज्ञान की धरोहर का स्वामी योगी स्वयं होता है | इसलिए स्वामी शब्द से संबोधित होता है|

दूसरे दृष्टिकोण से देखे तो , जब कोई इस अवस्था में पहुँचता है तो सब प्रकार से दरिद्र भी हो जाता है | उसके पास कुछ नही बचाता सिवाय अपने के | जब स्वयं के सिवाय कुछ नही बचा अतः इसे कहेंगे दरिद्रता | इसी कारण से इस परम अवस्था को उपलब्ध अपने सन्यासियों को बौध धर्म ने ‘भिक्षु’ कहा| जिसके पास अपने के सिवाय कुछ नही बचा वो भिक्षु| अगर संसारिक दृष्टि से देखा ज्जा तो ‘भिक्षु’ और आत्मा की दृष्टि से देखा जाए तो ‘स्वामी’| अगर गौर से देखा जाए तो दोनो ही संबोधन साधना की एक ही परा अवस्था को इंगित करते हैं| जहाँ स्वयं की सिवा कुछ नहीं बचाता| स्वामी और भिक्षु एक ही अवस्था के दो नाम हैं|

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

Dibhu.com-Divya Bhuvan is committed for quality content on Hindutva and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supportting us more often.😀


We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!