Join Adsterra Banner By Dibhu

Shri Ram Bhakt Sant Kabeer ji

ईश्वर स्मरण पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Remembrance

सुमिरन मारग सहज का,सदगुरु दिया बताईसांस सांस सुमिरन करु,ऐक दिन मिलसी आये। Sumiran marag sahaj ka, satguru diya bataiSans sans sumiran karun , ek din milsi aaye . भावार्थ: ईश्वर स्मरण का मार्ग अत्यंत सरल है। …

ईश्वर स्मरण पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Remembrance Read More
Shri Ram Bhakt Sant Kabeer ji

सर्वव्यापक ईश्वर पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Omnipresence Of God

मैं जानू हरि दूर है हरि हृदय भरपूरमानुस ढुढंहै बाहिरा नियरै होकर दूर। Mai janu Hari door hai Hari hirday bharpoorManush dhudhai bahira niaray hokar door . भावार्थ: लोग ईश्वर को बहुत दूर मानते हैं पर …

सर्वव्यापक ईश्वर पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Omnipresence Of God Read More
Shri Ram Bhakt Sant Kabeer ji

विश्वास पर कबीर के दोहे | Kabir Ke Dohe On Faith

कबिरा चिंता क्या करु, चिंता से क्या होयमेरी चिंता हरि करै, चिंता मोहि ना कोय। kabira chinta kya karu , chinta se kya hoyeMeri chinta Hari karai ,chinta mohi na koye . अर्थ: कबीर क्यों चिंता …

विश्वास पर कबीर के दोहे | Kabir Ke Dohe On Faith Read More
Shri Ram Bhakt Sant Kabeer ji

ज्ञान पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Knowledge

छारि अठारह नाव पढ़ि छाव पढ़ी खोया मूलकबीर मूल जाने बिना,ज्यों पंछी चनदूल। Chhari atharah naw padhi chhaw padhi khoya moolKabir mool janai bina , jyon panchhi chandool. भावार्थ: जिसने केवल चार वेद अठारह पुरान,नौ व्याकरण …

ज्ञान पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Knowledge Read More
Shri Ram Bhakt Sant Kabeer ji

प्रेम पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Love

आगि आंचि सहना सुगम, सुगम खडग की धारनेह निबाहन ऐक रास, महा कठिन ब्यबहार। Aagi aanchi sahna sugam , sugam khadag ki dharNeh nibahan ek ras , maha kathin byabahar . भावार्थ: अग्नि का ताप और …

प्रेम पर कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe On Love Read More

धर्मो रक्षति रक्षितः