Join Adsterra Banner By Dibhu

रहिमन निज मन की व्यथा, मन में राखो गोय

5
(2)

रहिमन निज मन की व्यथा, मन में राखो गोय।
सुनि इठलैहैं लोग सब, बाटि न लैहै कोय॥

Rahiman nij man ki vyatha, Man mein raakho goy।
Suni ithalaihain log sab, Baati na laihe koy।।

अर्थ: रहीम जी कहते हैं कि अपन दुःख किसी के सामने प्रदर्शित नहीं करना चहिये क्योंकि आपका दुःख जानकर लोग मन ही मन खुश होते हैं। लेकिन कोई दुःख बाँट नहीं सकता।

Meaning: According to Rahim ji, one should not show his sorrow in front of others because people secretly feel glad in their hearts when they listen about your misery. But no one can share your grief.

शब्दों के अर्थ

निज=अपने
व्यथा=दुःख
गोय = गुह्य, छुपा हुआ
इठलैहे = इठलाना ,खूब प्रसन्न होना
कोय=कोई

व्याख्या

यह दोहा समाज के उन लोगों के लिए लिखा है जो किसी का दुःख दर्द नहीं समझते बल्कि दुखी व्यक्ति पर पीठ पीछे हँसते हैं। रहीम जी ऐसी लोगों से सावधान करते हुए कहते हैं कि सब लोगों के सामने अपना दुखड़ा नहीं रोना चाहिए नहीं तो आपको सहानुभूति के स्थान पर हंसी का पात्र समझा जाता है।

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः