Join Adsterra Banner By Dibhu

Kabir Ke Dohe : संत कबीर दास के प्रसिद्द दोहे अर्थ सहित

5
(13)

संत श्री कबीर दास के दोहे ज्ञान से परिपूर्ण और शिक्षाप्रद होते हैं। संत कबीर अपने काल के बड़े सम्मानित भक्त और समाज सुधारक थे। उनके दोहे आज भी प्रासंगिक हैं। आइये पढ़ते हैं उनके कुछ प्रसिद्द दोहे : Kabir Ke Dohe

तूँ तूँ करता तूँ भया, मुझ मैं रही न हूँ।
वारी फेरी बलि गई, जित देखौं तित तूँ ॥

Too too karata toon bhaya, mujh main rahee na hoon.
Vaaree pheree bali gaee, jit dekhaun tit too .

अर्थ: जीवात्मा कह रही है कि ‘तू है’ ‘तू है’ कहते−कहते मेरा अहंकार समाप्त हो गया। इस तरह भगवान पर न्यौछावर होते−होते मैं पूर्णतया समर्पित हो गई। अब तो जिधर देखती हूँ उधर तू ही दिखाई देता है।

कबीर माया पापणीं, हरि सूँ करे हराम।
मुखि कड़ियाली कुमति की, कहण न देई राम॥

Kabeer maaya paapaneen, hari soon kare haraam.
Mukhi kadiyaalee kumati kee, kahan na deee Raam.

अर्थ: यह माया बड़ी पापिन है। यह प्राणियों को परमात्मा से विमुख कर देती है तथा उनके मुख पर दुर्बुद्धि की कुंडी लगा देती है और राम-नाम का जप नहीं करने देती।

बेटा जाए क्या हुआ, कहा बजावै थाल।
आवन जावन ह्वै रहा, ज्यौं कीड़ी का नाल॥

Beta jae kya hua, kaha bajaavai thaal.
Aavan jaavan hvai raha, jyaun keedee ka naal.

अर्थ: बेटा पैदा होने पर हे प्राणी थाली बजाकर इतनी प्रसन्नता क्यों प्रकट करते हो?जीव तो चौरासी लाख योनियों में वैसे ही आता जाता रहता है जैसे जल से युक्त नाले में कीड़े आते-जाते रहते हैं।

जिस मरनै थै जग डरै, सो मेरे आनंद।
कब मरिहूँ कब देखिहूँ, पूरन परमानंद॥

Jis maranai thai jag darai, so mere aanand.
Kab marihoon kab dekhihoon, pooran paramaanand.

अर्थ: जिस मरण से संसार डरता है, वह मेरे लिए आनंद है। कब मरूँगा और कब पूर्ण परमानंद स्वरूप ईश्वर का दर्शन करूँगा। देह त्याग के बाद ही ईश्वर का साक्षात्कार होगा। घट का अंतराल हट जाएगा तो अंशी में अंश मिल जाएगा।

काबा फिर कासी भया, राम भया रहीम।
मोट चून मैदा भया, बैठ कबीर जीम॥

Kaba phir kaasee bhaya, raam bhaya raheem.
Mot choon maida bhaya, baith kabeer jeem.

अर्थ: सांप्रदायिक सद्भावना के कारण कबीर के लिए काबा काशी में परिणत हो गया। भेद का मोटा चून या मोठ का चून अभेद का मैदा बन गया, कबीर उसी को जीम रहा है।

मेरा मुझ में कुछ नहीं, जो कुछ है सो तेरा।
तेरा तुझकौं सौंपता, क्या लागै है मेरा॥

Mera mujh mein kuchh nahin, jo kuchh hai so tera.
Tera tujhakaun saumpata, kya laagai hai mera.

अर्थ: मेरे पास अपना कुछ भी नहीं है। मेरा यश, मेरी धन-संपत्ति, मेरी शारीरिक-मानसिक शक्ति, सब कुछ तुम्हारी ही है। जब मेरा कुछ भी नहीं है तो उसके प्रति ममता कैसी? तेरी दी हुई वस्तुओं को तुम्हें समर्पित करते हुए मेरी क्या हानि है? इसमें मेरा अपना लगता ही क्या है?

हम भी पांहन पूजते, होते रन के रोझ।
सतगुरु की कृपा भई, डार्या सिर पैं बोझ॥

Ham bhee paanhan poojate, hote ran ke rojh.
Sataguru kee krpa bhee, daarya sir pain bojh.

अर्थ: कबीर कहते हैं कि यदि सद्गुरु की कृपा न हुई होती तो मैं भी पत्थर की पूजा करता और जैसे जंगल में नील गाय भटकती है, वैसे ही मैं व्यर्थ तीर्थों में भटकता फिरता। सद्गुरु की कृपा से ही मेरे सिर से आडंबरों का बोझ उतर गया।

सब जग सूता नींद भरि, संत न आवै नींद।
काल खड़ा सिर ऊपरै, ज्यौं तौरणि आया बींद॥

sab jag soota neend bhari, sant na aavai neend.
kaal khada sir ooparai, jyaun taurani aaya beend.

अर्थ: सारा संसार नींद में सो रहा है किंतु संत लोग जागृत हैं। उन्हें काल का भय नहीं है, काल यद्यपि सिर के ऊपर खड़ा है किंतु संत को हर्ष है कि तोरण में दूल्हा खड़ा है। वह शीघ्र जीवात्मा रूपी दुल्हन को उसके असली घर लेकर जाएगा।

जौं रोऊँ तौ बल घटै, हँसौं तौ राम रिसाइ।
मनहीं माँहि बिसूरणां, ज्यूँ धुँण काठहिं खाइ॥

jau rooon to bal ghatai,,Hansau to Ram risai।
Manahin maanhi bisoorana, jyoon ghunn kaathahin khai॥

अर्थ: यदि आत्मारूपी विरहिणी प्रिय के वियोग में रोती है, तो उसकी शक्ति क्षीण होती है और यदि हँसती है, तो परमात्मा नाराज़ हो जाते हैं। वह मन ही मन दुःख से अभिभूत होकर चिंता करती है और इस तरह की स्थिति में उसका शरीर अंदर−अंदर वैसे ही खोखला होता जाता है, जैसे घुन लकड़ी को अंदर−अंदर खा जाता है।

बिरह जिलानी मैं जलौं, जलती जलहर जाऊँ।
मो देख्याँ जलहर जलै, संतौ कहा बुझाऊँ॥

Birah jilaanee main jalaun, jalatee jalahar jaoon.
Mo dekhyaan jalahar jalai, santau kaha bujhaoon.

अर्थ: विरहिणी कहती है कि विरह में जलती हुई मैं सरोवर (या जल-स्थान) के पास गई। वहाँ मैंने देखा कि मेरे विरह की आग से जलाशय भी जल रहा है। हे संतो! बताइए मैं अपनी विरह की आग को कहाँ बुझाऊँ?

साँई मेरा बाँणियाँ, सहजि करै व्यौपार।
बिन डाँडी बिन पालड़ै, तोलै सब संसार॥

Saai mera baanniyaan, sahaji karai vyaupaar.
Bin daandee bin paaladai, tolai sab sansaar.

अर्थ: परमात्मा व्यापारी है, वह सहज ही व्यापार करता है। वह बिना तराज़ू एवं बिना डाँड़ी पलड़े के ही सारे सांसार को तौलता है। अर्थात् वह समस्त जीवों के कर्मों का माप करके उन्हें तदनुसार गति देता है।

पोथी पढ़ि-पढ़ि जग मुवा, पंडित भया न कोइ।
एकै आखर प्रेम का, पढ़ै सो पंडित होइ॥

Pothee padhi-padhi jag muva, pandit bhaya na koi.
Ekai aakhar prem ka, padhai so pandit hoi.

अर्थ: सारे संसारिक लोग पुस्तक पढ़ते-पढ़ते मर गए कोई भी पंडित (वास्तविक ज्ञान रखने वाला) नहीं हो सका। परंतु जो अपने प्रिय परमात्मा के नाम का एक ही अक्षर जपता है (या प्रेम का एक अक्षर पढ़ता है) वही सच्चा ज्ञानी होता है। वही परम तत्त्व का सच्चा पारखी होता है।

हेरत हेरत हे सखी, रह्या कबीर हिराई।
बूँद समानी समुंद मैं, सो कत हेरी जाइ॥

Herat herat he sakhee, rahya kabeer hiraee.
Boond samaanee samund main, so kat heree jai.

अर्थ: साधना की चरमावस्था में जीवात्मा का अहंभाव नष्ट हो जाता है। अद्वैत की अनुभूति जाग जाने के कारण आत्मा का पृथक्ता बोध समाप्त हो जाता है। अंश आत्मा अंशी परमात्मा में लीन होकर अपना अस्तित्व मिटा देती है। यदि कोई आत्मा के पृथक् अस्तित्व को खोजना चाहे तो उसके लिए यह असाध्य कार्य होगा।

पाणी ही तैं पातला, धूवां हीं तैं झींण।
पवनां बेगि उतावला, सो दोस्त कबीरै कीन्ह॥

Paani hi tain paatala, dhoovaan heen tain jheenn.
Pavana begi utaavala, so dost kabeerai keenh.

अर्थ: जो जल से भी अधिक पतला (सूक्ष्म) है और धुएँ से भी झीना है और जो पवन के वेग से भी अधिक गतिमान है। ऐसे रूप वाले सूक्ष्म उन्मन को कबीर ने अपना मित्र बनाया है।

साँच बराबरि तप नहीं, झूठ बराबर पाप।
जाके हिरदै साँच है ताकै हृदय आप॥

Saanch baraabari tap nahin, jhooth baraabar paap.
Jaake hiradai saanch hai taakai hrday aap.

अर्थ: सच्चाई के बराबर कोई तपस्या नहीं है, झूठ (मिथ्या आचरण) के बराबर कोई पाप कर्म नहीं है। जिसके हृदय में सच्चाई है उसी के हृदय में भगवान निवास करते हैं।

चकवी बिछुटी रैणि की, आइ मिली परभाति।
जे जन बिछूटे राम सूँ, ते दिन मिले न राति॥

Chakavee bichhutee raini kee, aai milee parabhaati.
Je jan bichhoote raam soon, te din mile na raati.

अर्थ: रात के समय में अपने प्रिय से बिछुड़ी हुई चकवी (एक प्रकार का पक्षी) प्रातः होने पर अपने प्रिय से मिल गई। किंतु जो लोग राम से विलग हुए हैं, वे न तो दिन में मिल पाते हैं और न रात में।

सुखिया सब संसार है, खाए अरु सोवै।
दुखिया दास कबीर है, जागै अरु रोवै॥

Sukhiya sab sansaar hai, khae aru sovai.
Dukhiya daas kabeer hai, jaagai aru rovai.

अर्थ: कबीर को पूरा संसार मोह-ग्रस्त दिखाई देता है। वह मृत्यु की छाया में रहकर भी सबसे बेख़बर विषय-वासनाओं को भोगते हुए अचेत पड़ा है। कबीर का अज्ञान दूर हो गया है। उनमें ईश्वर के प्रेम की प्यास जाग उठी है। सांसरिकता से उनका मन विमुख हो गया है। उन्हें दोहरी पीड़ा से गुज़रना पड़ रहा है। पहली पीड़ा है, सुखी जीवों का घोर यातनामय भविष्य, मुक्त होने के अवसर को व्यर्थ में नष्ट करने की उनकी नियति। दूसरी पीड़ा है, भगवान को पा लेने की अतिशय बचैनी। दोहरी व्यथा से व्यथित कबीर जाग्रतावस्था में हैं और ईश्वर को पाने की करुण पुकार लगाए हुए हैं।

प्रेमी ढूँढ़त मैं फिरूँ, प्रेमी मिलै न कोइ।
प्रेमी कूँ प्रेमी मिलै तब, सब विष अमृत होइ॥

Premi dhoondhat main phiroon, premee milai na koi.
Premi ko premee milai tab, sab vish amrt hoi.

अर्थ: परमात्मा के प्रेमी को मैं खोजता घूम रहा हूँ परंतु कोई भी प्रेमी नहीं मिलता है। यदि ईश्वर-प्रेमी को दूसरा ईश्वर-प्रेमी मिल जाता है तो विषय-वासना रूपी विष अमृत में परिणत हो जाता है।

जब मैं था तब हरि नहीं, अब हरि हैं मैं नाँहिं।
सब अँधियारा मिटि गया, जब दीपक देख्या माँहि॥

Jab main tha tab hari nahin, ab hari hain main naanhin.
Sab andhiyaara miti gaya, jab deepak dekhya maanhi.

अर्थ: अर्थ: जब तक अहंकार था तब तक ईश्वर से परिचय नहीं हो सका। अहंकार या आत्मा के भेदत्व का अनुभव जब समाप्त हो गया तो ईश्वर का प्रत्यक्ष साक्षात्कार हो गया। जैसे दीपक का प्रकाश होने पर अँधेरे का अस्तित्व समाप्त हो जाता है। उसी प्रकार जब ईश्वर का साक्षात्कार हुआ तो अहंकार रुपी अज्ञानता का अंधकार ‘मैं ‘ का भाव ही समाप्त हो गया।

व्याख्या : जब तक कोई मैं का भाव नहीं छोड़ता नहीं तब तक ईश्वर को प्राप्त नहीं करता। और ईश्वर जहाँ रहते हैं वहां अहंकार रुपी अज्ञानता नहीं रहती। कबीर दास जी कहते हैं जब तक मेरे अंदर मैं का भाव था तब तक मेरे हृदय में ईश्वर न प्रकट हुए। परन्तु जैसे ही मैंने अपना मैं का भाव मिटा दिया ,तब मेरी सीमित सोच समाप्त हो गयी तब मैं उस अनंत से एक हो कर स्वयं अनंत हो गया।

मन के हारे हार हैं, मन के जीते जीति।
कहै कबीर हरि पाइए, मन ही की परतीति॥

Man ke haare haar hain, man ke jeete jeeti.
Kahai kabeer hari paiye, man hee kee parateeti.

अर्थ: मन के हारने से हार होती है, मन के जीतने से जीत होती है (मनोबल सदैव ऊँचा रखना चाहिए)। मन के गहन विश्वास से ही परमात्मा की प्राप्ति होती है।

चाकी चलती देखि कै, दिया कबीरा रोइ।
दोइ पट भीतर आइकै, सालिम बचा न कोई॥

Chaki chalti dekhi Ke, diya Kabira roi.
Doi pat bheetar aaikai, saalim bacha na koee.

अर्थ: काल की चक्की चलते देख कर कबीर को रुलाई आ जाती है। आकाश और धरती के दो पाटों के बीच कोई भी सुरक्षित नहीं बचा है।

सात समंद की मसि करौं, लेखनि सब बनराइ।
धरती सब कागद करौं, तऊ हरि गुण लिख्या न जाइ॥

saat samand kee masi karaun, lekhani sab banarai.
dharatee sab kaagad karaun, taoo hari gun likhya na jai.

अर्थ: यदि मैं सातों समुद्रों के जल की स्याही बना लूँ तथा समस्त वन समूहों की लेखनी कर लूँ, तथा सारी पृथ्वी को काग़ज़ कर लूँ, तब भी परमात्मा के गुण को लिखा नहीं जा सकता। क्योंकि वह परमात्मा अनंत गुणों से युक्त है।

कबीर कुत्ता राम का, मुतिया मेरा नाऊँ।
गलै राम की जेवड़ी, जित खैंचे तित जाऊँ॥

Kabeer kutta Raam ka, Motiya mera naoon.
Galai Raam kee jevadee, jit khainche tit jaoon.

अर्थ: कबीर कहते हैं कि मैं तो राम का कुत्ता हूँ, और नाम मेरा मुतिया है। मेरे गले में राम की ज़ंजीर पड़ी हुई है, मैं उधर ही चला जाता हूँ जिधर वह ले जाता है। प्रेम के ऐसे बंधन में मौज-ही-मौज है।

माली आवत देखि के, कलियाँ करैं पुकार।
फूली-फूली चुनि गई, कालि हमारी बार॥

Maalee aavat dekhi ke, kaliyaan karain pukaar.
Phoolee-phoolee chuni gaee, kaali hamaaree baar.

अर्थ: मृत्यु रूपी माली को आता देखकर अल्पवय जीव कहता है कि जो पुष्पित थे अर्थात् पूर्ण विकसित हो चुके थे, उन्हें काल चुन ले गया। कल हमारी भी बारी आ जाएगी। अन्य पुष्पों की तरह मुझे भी काल कवलित होना पड़ेगा।

हाड़ जलै ज्यूँ लाकड़ी, केस जले ज्यूँ घास।
सब तन जलता देखि करि, भया कबीर उदास॥

Haad jalai jyoon laakadee, kes jale jyoon ghaas.
Sab tan jalata dekhi kari, bhaya kabeer udaas.

अर्थ: हे जीव, यह शरीर नश्वर है। मरणोपरांत हड्डियाँ लकड़ियों की तरह और केश घास (तृणादि) के समान जलते हैं। इस तरह समस्त शरीर को जलता देखकर कबीर उदास हो गया। उसे संसार के प्रति विरक्ति हो गई।

मन मथुरा दिल द्वारिका, काया कासी जाणि।
दसवाँ द्वारा देहुरा, तामै जोति पिछांणि॥

Man mathura dil dvaarika, kaaya kaasee jaani.
Dasavaan dvaara dehura, taamai joti pichhaanni.

अर्थ: मन को मथुरा (कृष्ण का जन्म स्थान) दिल को द्वारिका (कृष्ण का राज्य स्थान) और देह को ही काशी समझो। दशवाँ द्वार ब्रह्म रंध्र ही देवालय है, उसी में परम ज्योति की पहचान करो।

नैनाँ अंतरि आव तूँ, ज्यूँ हौं नैन झँपेऊँ।
नाँ हौं देखौं और कूँ, नाँ तुझ देखन देऊँ॥

Naina antari aav toon, jyoon haun nain jhanpeun.
Naa haun dekhaun aur koon, naan tujh dekhan deun.

अर्थ: आत्मारूपी प्रियतमा कह रही है कि हे प्रियतम! तुम मेरे नेत्रों के भीतर आ जाओ। तुम्हारा नेत्रों में आगमन हाते ही, मैं अपने नेत्रों को बंद कर लूँगी या तुम्हें नेत्रों में बंद कर लूँगी। जिससे मैं न तो किसी को देख सकूँ और न तुम्हें किसी को देखने दूँ।

कबीर यहु घर प्रेम का, ख़ाला का घर नाँहि।
सीस उतारै हाथि करि, सो पैठे घर माँहि॥

Kabeer yahu ghar prem ka, khaala ka ghar naanhi.
Sees utaarai haathi kari, so paithe ghar maanhi.

अर्थ: परमात्मा का घर तो प्रेम का है, यह मौसी का घर नहीं है जहाँ मनचाहा प्रवेश मिल जाए। जो साधक अपने सीस को उतार कर अपने हाथ में ले लेता है वही इस घर में प्रवेश पा सकता है।

मुला मुनारै क्या चढ़हि, अला न बहिरा होइ।
जेहिं कारन तू बांग दे, सो दिल ही भीतरि जोइ॥

Mula munaarai kya chadhahi, ala na bahira hoi.
Jehi kaaran too baang de, so dil hee bheetari joi.

अर्थ: हे मुल्ला! तू मीनार पर चढ़कर बाँग देता है, अल्लाह बहरा नहीं है। जिसके लिए तू बाँग देता है, उसे अपने दिल के भीतर देख।

कबीर मरनां तहं भला, जहां आपनां न कोइ।
आमिख भखै जनावरा, नाउं न लेवै कोइ॥

Kabeer maranaan tahan bhala, jahaan aapanaan na koi.
Aamikh bhakhai janaavara, naun na levai koi.

अर्थ: कबीर कहते हैं कि ऐसे स्थान पर मरना चाहिए जहाँ अपना कोई न हो। जानवर उसका माँस खाकर अपना पेट भर लें और उसका नाम लेने वाला कोई ना हो।

सतगुरु हम सूँ रीझि करि, एक कह्या प्रसंग।
बरस्या बादल प्रेम का, भीजि गया सब अंग॥

Sataguru ham soon reejhi kari, ek kahya prasang.
Barasya baadal prem ka, bheeji gaya sab ang.

अर्थ: सद्गुरु ने मुझ पर प्रसन्न होकर एक रसपूर्ण वार्ता सुनाई जिससे प्रेम रस की वर्षा हुई और मेरे अंग-प्रत्यंग उस रस से भीग गए।

नर-नारी सब नरक है, जब लग देह सकाम।
कहै कबीर ते राम के, जैं सुमिरैं निहकाम॥

Nar-naaree sab narak hai, jab lag deh sakaam.
Kahai kabeer te raam ke, jain sumirain nihakaam.

अर्थ: जब तक यह शरीर काम भावना से युक्त है तब तक समस्त नर-नारी नरक स्वरूप हैं। किंतु जो काम रहित होकर परमात्मा का स्मरण करते हैं वे परमात्मा के वास्तविक भक्त हैं।

अंषड़ियाँ झाँई पड़ी, पंथ निहारि-निहारि।
जीभड़ियाँ छाला पड्या, राम पुकारि-पुकारि॥

Anshadiyaan jhaanee padee, panth nihaari-nihaari.
Jeebhadiyaan chhaala padya, Raam Pukari Pukari.

अर्थ: प्रियतम का रास्ता देखते-देखते आत्मा रूपी विरहिणी की आँखों के आगे अँधेरा छाने लगा है। उसकी दृष्टि मंद पड़ गई है। प्रिय राम की पुकार लगाते-लगाते उसकी जीभ में छाले पड़ गए हैं।

हम घर जाल्या आपणाँ, लिया मुराड़ा हाथि।
अब घर जालौं तासका, जे चले हमारे साथि॥

Ham ghar jaalya aapanaan, liya muraada haathi.
Ab ghar jaalaun taasaka, je chale hamaare saathi.

अर्थ: मैंने ज्ञान-भक्ति की जलती हुई लकड़ी हाथ में लेकर अपना विषय वासनाओं का घर जला डाला। अब मैं उसका भी विषय-वासनाओं का घर जला सकता हूँ जो मेरा साथ देने के लिए तैयार हो।

कलि का बामण मसखरा, ताहि न दीजै दान।
सौ कुटुंब नरकै चला, साथि लिए जजमान॥

Kali ka baaman masakhara, taahi na deejai daan.
Sau kutumb narakai chala, saathi lie jajamaan.

अर्थ: कलियुग का ब्राह्मण दिल्लगी-बाज़ है (हँसी मज़ाक करने वाला) उसे दान मत दो। वह अपने यजमान और सैकड़ों कुटुंबियों के साथ नरक जाता है।

कबीर यहु जग अंधला, जैसी अंधी गाइ।
बछा था सो मरि गया, ऊभी चांम चटाइ॥

Kabeer yahu jag andhala, jaisee andhee gai.
Bachha tha so mari gaya, oobhee chaamm chatai.

अर्थ: यह संसार अँधा है। यह ऐसी अँधी गाय की तरह है, जिसका बछड़ा तो मर गया किंतु वह खड़ी-खड़ी उसके चमड़े को चाट रही है। सारे प्राणी उन्हीं वस्तुओं के प्रति राग रखते हैं जो मृत या मरणशील हैं। मोहवश जीव असत्य की ओर ही आकर्षित होता है।

प्रेम न खेतौं नीपजै, प्रेम न दृष्टि बिकाइ।
राजा परजा जिस रुचै, सिर दे सो ले जाइ॥

Prem na khetaun neepajai, prem na drshti bikai.
Raaja paraja jis ruchai, sir de so le jai.

अर्थ: प्रेम किसी खेत में उत्पन्न नहीं होता और न वह किसी हाट (बाज़ार) में ही बिकता है। राजा हो अथवा प्रजा, जिस किसी को भी वह रुचिकर लगे वह अपना सिर देकर उसे ले जा सकता है।

सतगुर की महिमा अनंत, अनंत किया उपकार।
लोचन अनंत उघाड़िया, अनंत दिखावण हार॥

Satagur kee mahima anant, anant kiya upakaar.
Lochan anant ughaadiya, anant dikhaavan haar.

अर्थ: ज्ञान के आलोक से संपन्न सद्गुरु की महिमा असीमित है। उन्होंने मेरा जो उपकार किया है वह भी असीम है। उसने मेरे अपार शक्ति संपन्न ज्ञान-चक्षु का उद्घाटन कर दिया जिससे मैं परम तत्त्व का साक्षात्कार कर सका। ईश्वरीय आलोक को दृश्य बनाने का श्रेय महान गुरु को ही है।

हरि रस पीया जाँणिये, जे कबहूँ न जाइ खुमार।
मैमंता घूँमत रहै, नाँहीं तन की सार॥

Hari ras peeya jaanniye, je kabahoon na jai khumaar.
Maimanta ghoonmat rahai, naanheen tan kee saar.

अर्थ: राम के प्रेम का रस पान करने का नशा नहीं उतरता। यही राम-रस पीने वाले की पहचान भी है। प्रेम-रस से मस्त होकर भक्त मतवाले की तरह इधर-उधर घूमने लगता है। उसे अपने शरीर की सुधि भी नहीं रहती। भक्ति-भाव में डूबा हुआ व्यक्ति, सांसारिक व्यवहार की परवाह नहीं करता और उसकी दृष्टि में देह-धर्म नगण्य हो जाता है।

माया मुई न मन मुवा, मरि-मरि गया सरीर।
आसा त्रिष्णाँ नाँ मुई, यौं कहै दास कबीर॥

Maaya muee na man muva, mari-mari gaya sareer.
Aasa trishnaan naan muee, yaun kahai daas kabeer.

अर्थ: कबीर कहते हैं कि प्राणी की न माया मरती है, न मन मरता है, यह शरीर ही बार-बार मरता है। अर्थात् अनेक योनियों में भटकने के बावजूद प्राणी की आशा और तृष्णा नहीं मरती वह हमेशा बनी ही रहती है।

पाणी केरा बुदबुदा, इसी हमारी जाति।
एक दिनाँ छिप जाँहिगे, तारे ज्यूं परभाति॥

Paani kera budabuda, isee hamaaree jaati.
Ek dinaan chhip jaanhige, taare jyoon parabhaati.

अर्थ: यह मानव जाति तो पानी के बुलबुले के समान है। यह एक दिन उसी प्रकार छिप (नष्ट) जाएगी, जैसे ऊषा-काल में आकाश में तारे छिप जाते हैं।

बाग़ों ना जा रे ना जा, तेरी काया में गुलज़ार।
सहस-कँवल पर बैठ के, तू देखे रूप अपार॥

Baagon na ja re na ja, teree kaaya mein gulazaar.
Sahas-kanval par baith ke, too dekhe roop apaar.

अर्थ: अरे, बाग़ों में क्या मारा-मारा फिर रहा है। तेरी अपनी काया (अस्तित्व) में गुलज़ार है। हज़ार पँखुड़ियों वाले कमल पर बैठकर तू ईश्वर का अपरंपार रूप देख सकता है।

पात झरंता यों कहै, सुनि तरवर बनराइ।
अब के बिछुड़े ना मिलैं, कहुँ दूर पड़ैंगे जाइ॥

Paat jharanta yon kahai, suni taravar banarai.
Ab ke bichhude na milain, kahun door padainge jai.

अर्थ: पेड़ से गिरता हुआ पत्ता कहता है कि बनराजि के वृक्ष अबकी बार बिछुड़कर फिर नहीं मिलेंगे, गिरकर कहीं दूर हो जाएँगे। जीवात्मा जहाँ जन्म लेती है दुबारा वहाँ उसका जन्म नहीं होता।

खीर रूप हरि नाँव है, नीर आन व्यौहार।
हंस रूप कोइ साध है, तत का जाणहार॥

Kheer roop hari naanv hai, neer aan vyauhaar.
Hans roop koi saadh hai, tat ka jaanahaar.

अर्थ: स्वयं भगवान क्षीर रूप हैं, जगत के अन्य व्यवहार जल की तरह हैं। कोई विरला साधु हंस रूप है जो तत्त्व का जानने वाला है। जल को छोड़कर क्षीर (दूध) की ओर उन्मुख भक्त जन ही होते हैं, क्योंकि नीर-क्षीर विवेक उन्हीं में होता है।

कबीर ऐसा यहु संसार है, जैसा सैंबल फूल।
दिन दस के व्यौहार में, झूठै रंगि न भूलि॥

Kabeer aisa yahu sansaar hai, jaisa saimbal phool.
Din das ke vyauhaar mein, jhoothai rangi na bhooli.

अर्थ: यह जगत सेमल के पुष्प की तरह क्षण-भंगुर तथा अज्ञानता में डालने वाला है। दस दिन के इस व्यवहार में, हे प्राणी! झूठ-मूठ के आकर्षण में अपने को डालकर स्वयं को मत भूलो।

जाका गुर भी अंधला, चेला खरा निरंध।
अंधा−अंधा ठेलिया, दून्यूँ कूप पड़ंत॥

Jaaka gur bhee andhala, chela khara nirandh.
Andha−andha theliya, doonyoon koop padant.

अर्थ: जिसका गुरु अँधा अर्थात् ज्ञान−हीन है, जिसकी अपनी कोई चिंतन दृष्टि नहीं है और परंपरागत मान्यताओं तथा विचारों की सार्थकता को जाँचने−परखने की क्षमता नहीं है; ऐसे गुरु का अनुयायी तो निपट दृष्टिहीन होता है। उसमें अच्छे-बुरे, हित-अहित को समझने की शक्ति नहीं होती, जबकि हित-अहित की पहचान पशु-पक्षी भी कर लेते हैं। इस तरह अँधे गुरु के द्वारा ठेला जाता हुआ शिष्य आगे नहीं बढ़ पाता। वे दोनों एक-दूसरे को ठेलते हुए कुएँ मे गिर जाते हैं अर्थात् अज्ञान के गर्त में गिर कर नष्ट हो जाते हैं।

परनारी पर सुंदरी, बिरला बंचै कोइ।
खातां मीठी खाँड़ सी, अंति कालि विष होइ॥

Paranaaree par sundaree, birala banchai koi.
Khaataan meethee khaand see, anti kaali vish hoi.

अर्थ: पराई स्त्री तथा पराई सुंदरियों से कोई बिरला ही बच पाता है। यह खाते (उपभोग करते) समय खाँड़ के समान मीठी (आनंददायी) अवश्य लगती है किंतु अंततः वह विष जैसी हो जाती है।

जाके मुँह माथा नहीं, नाहीं रूप कुरूप।
पुहुप बास तैं पातरा, ऐसा तत्त अनूप॥

Jaake munh maatha nahin, naaheen roop kuroop.
Puhup baas tain paatara, aisa tatt anoop.

अर्थ: जिसके मुख और मस्तक नहीं है, न रूप है न अरूप। वह न तो रूपवान है और न रूपहीन है, पुष्प की सुगंध से भी सूक्ष्म वह अनुपम तत्त्व है।

अंतरि कँवल प्रकासिया, ब्रह्म वास तहाँ होइ।
मन भँवरा तहाँ लुबधिया, जाँणौंगा जन कोइ॥

Antari kanval prakaasiya, brahm vaas tahaan hoi.
Man bhanvara tahaan lubadhiya, jaannaunga jan koi.

अर्थ: कबीर कहते हैं कि हृदय के भीतर कमल प्रफुल्लित हो रहा है। उसमें से ब्रह्म की सुगंध आ रही या वहाँ ब्रह्म का निवास है। मेरा मन रूपी भ्रमर उसी में लुब्ध हो गया। इस रहस्य को कोई ईश्वर भक्त ही समझ सकता है। किसी अन्य व्यक्ति के समझ में नहीं आएगा।

समंदर लागी आगि, नदियाँ जलि कोइला भई।
देखि कबीरा जागि, मंछी रूषाँ चढ़ि गई।

Samandar laagee aagi, nadiyaan jali koila bhai
Dekhi kabeera jaagi, manchhee rooshaan chadhi gaee.

अर्थ: कबीरदास कहते हैं कि विषया-सक्त अंतःकरण रूपी सागर में ज्ञान-विरह की आग लग गई, फलतः विषय वासनाओं का संवहन करने वाली नदी रूपी इंद्रियाँ जलकर नष्ट हो गईं। कबीर ने जागृत होकर देखा कि जीवात्मा रूपी मछली सहस्रार चक्र के वृक्ष पर चढ़ गई है।

Sant Kabir ke Dohe

विषय से सम्बंधित लेख :

कबीर के दोहे-भाग 1-अनुभव: Kabirdas Ke Dohe-Experience
कबीर के दोहे-भाग 2-काल: Kabirdas Ke Dohe-Death
कबीर के दोहे-भाग 3-माया: Kabirdas Ke Dohe-Illusion
कबीर के दोहे-भाग 4-नारी: Kabirdas Ke Dohe-Women
कबीर के दोहे-भाग 5-सेवक: Kabirdas ke Dohe-Servant
कबीर के दोहे-भाग 6-भिक्षा: Kabirdas ke Dohe-Alms
कबीर के दोहे-भाग 7-वेश: Kabirdas ke Dohe-Garb
कबीर के दोहे-भाग 8-बन्धन: Kabirdas ke Dohe-8 Bondage
कबीर के दोहे-भाग 9-चेतावनी: Kabirdas Ke Dohe-Warning
कबीर के दोहे-भाग 10-वाणी: Kabirdas Ke Dohe-Speech
कबीर के दोहे-भाग 11-परमार्थ: Kabirdas Ke Dohe-Welfare
कबीर के दोहे-भाग 12-वीरता: Kabirdas Ke Dohe-Bravery
कबीर के दोहे-भाग 13-भक्त: Kabirdas Ke Dohe-Devotee
कबीर के दोहे-भाग 14-संगति: Kabirdas Ke Dohe-Company
कबीर के दोहे-भाग 15-परामर्श: Kabirdas Ke Dohe-Advice
कबीर के दोहे-भाग 16-मन: Kabirdas Ke Dohe-Mind
कबीर के दोहे-भाग 17-मोह: Kabirdas Ke Dohe-Attachment
कबीर के दोहे-भाग 18-लोभ: Kabirdas Ke Dohe-Greed
कबीर के दोहे-भाग 19-पारखी: Kabirdas Ke Dohe-Examiner
कबीर के दोहे-भाग 20-विरह: Kabirdas Ke Dohe-Separation
कबीर के दोहे-भाग 21-प्रेम: Kabirdas Ke Dohe-Love
कबीर के दोहे-भाग 22-ज्ञानी: Kabirdas Ke Dohe-Scholar
कबीर के दोहे-भाग 23-विश्वास: Kabirdas Ke Dohe-Faith
कबीर के दोहे-भाग 24-सर्वव्यापक ईश्वर: Kabirdas Ke Dohe-Omnipotent God
कबीर के दोहे-भाग 25-ईश्वर स्मरण: Kabirdas Ke Dohe-Rememberance
कबीर के दोहे-भाग 26-खोज: Kabirdas Ke Dohe-Search
कबीर के दोहे-भाग 27-क्रोध: Kabirdas Ke Dohe-Anger
कबीर के दोहे-भाग 28-बुद्धि: Kabirdas Ke Dohe-Intellect
कबीर के दोहे-भाग 29-संतजन: Kabirdas Ke Dohe-Saints
कबीरदास जी के प्रसिद्द दोहे

Reference Link1: Link 2

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Happy to See you here!😀

संकलित लेख

About संकलित लेख

View all posts by संकलित लेख →

4 Comments on “Kabir Ke Dohe : संत कबीर दास के प्रसिद्द दोहे अर्थ सहित”

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः