Join Adsterra Banner By Dibhu

अपराजेय जीवन शक्ति की घोषणा कौन करता है ?

प्रस्तुत प्रश्न श्री हज़ारी प्रसाद द्विवेदी द्वारा लिखे कुटज निबंध से सम्बंधित है – Q. अपराजेय जीवन शक्ति की घोषणा कौन करता है ? a. शिवालिक पर्वत श्रृंखला b. कुटज c. पर्वत शिलायें d. हिमालय पर्वत …

अपराजेय जीवन शक्ति की घोषणा कौन करता है ? Read More

लेखक ने किसे शोभा निकेतन कहा है?

प्रस्तुत प्रश्न श्री हज़ारी प्रसाद द्विवेदी द्वारा लिखे कुटज निबंध से सम्बंधित है – Q. लेखक ने किसे शोभा निकेतन कहा है? a. कुटज को b. समुद्र को c. पर्वत को d. हिमालय पर्वत को Ans. …

लेखक ने किसे शोभा निकेतन कहा है? Read More

यक्ष कहाँ निर्वासित जीवन जी रहा था ?

मेघदूतम काव्य के ऊपर लिखे कुटज निबंध में Q. यक्ष कहाँ निर्वासित जीवन जी रहा था ? a. रामगिरि पर b. धौलागिरी पर c. नीलगिरि पर d. पम्पासर पर Ans: a. रामगिरि पर #Kutaj Nibandh Question …

यक्ष कहाँ निर्वासित जीवन जी रहा था ? Read More

विश्वनाथ मम नाथ पुरारी त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी अर्थ

चौपाईबिस्वनाथ मम नाथ पुरारी। त्रिभुवन महिमा बिदित तुम्हारी॥चर अरु अचर नाग नर देवा। सकल करहिं पद पंकज सेवा॥ अर्थ: (देवी पार्वती ने शिवजी से कहा-) हे विश्व के स्वामी! हे मेरे नाथ! हे पुर असुर के …

विश्वनाथ मम नाथ पुरारी त्रिभुवन महिमा विदित तुम्हारी अर्थ Read More

चौदह वर्ष के वनवास के दौरान श्रीराम कहाँ-कहाँ रहे?

प्रभु श्रीराम को 14 वर्ष का वनवास हुआ। इस वनवास काल में श्रीराम ने कई ऋषि-मुनियों से शिक्षा और विद्या ग्रहण की, संपूर्ण भारत को उन्होंने एक ही विचारधारा के सूत्र में बांधा, लेकिन इस दौरान …

चौदह वर्ष के वनवास के दौरान श्रीराम कहाँ-कहाँ रहे? Read More

धर्मो रक्षति रक्षितः