Join Adsterra Banner By Dibhu

यमुना जी की आरती|Shri Yamuna Aarti

माता यमुना जी की आरती ऊँ जै यमुना माता , हरि ऊँ जै यमुना माता , नो नहावे फल पावे सुख सुख की दाता ।ऊँ जै यमुना माता…….पवन श्री यमुना जल शीतल अगम बहै धारा , …

यमुना जी की आरती|Shri Yamuna Aarti Read More
Kabirdas -Kabir Ke Dohe In Hindi

संत कबीर के दोहे हिंदी में | Kabir Ke Dohe in Hindi With Meaning

संत श्री कबीर दास के दोहे ज्ञान से परिपूर्ण और शिक्षाप्रद होते हैं। प्रस्तुत है संत कबीर के दोहे हिंदी में : Kabir Ke Dohe in Hindi आंखों देखा घी भला, ना मुख मेला तेल ।साधु …

संत कबीर के दोहे हिंदी में | Kabir Ke Dohe in Hindi With Meaning Read More

कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe with Meaning

कामी क्रोधी लालची , इनते भक्ति ना होय ।भक्ति करै कोई सूरमा , जादि बरन कुल खोय ।।1 अर्थ: विषय वासना में लिप्त रहने वाले, क्रोधी स्वभाव वाले तथा लालची प्रवृति के प्राणियों से भक्ति नहीं …

कबीर के दोहे|Kabir Ke Dohe with Meaning Read More

कबीर दास के 10 दोहे | Kabir Das Ke Dohe

कबीर दास के दोहे (Kabir Das Ke Dohe) कबीर गुरु की भक्ति बिन, धिक जीवन संसार ।धुंवा का सा धौरहरा, बिनसत लगे न बार ।।1  अर्थ: संत कबीर जी कहते हैं कि गुरु की भक्ति के …

कबीर दास के 10 दोहे | Kabir Das Ke Dohe Read More

कबीर दास के 5 दोहे

कबीर हरि के रुठते, गुरु के शरणै जाय ।कहै कबीर गुरु रुठते , हरि नहि होत सहाय ।।1 अर्थ: प्राणी जगत को सचेत करते हुए कहते हैं – हे मानव । यदि भगवान तुम से रुष्ट …

कबीर दास के 5 दोहे Read More