Join Adsterra Banner By Dibhu

श्री जाहरवीर बाबा की आरती | Jaharveer Baba ki Aarti

5
(9)

वीर गोगाजी महाराज (सिद्धनाथ गोगादेव) राजस्थान के लोक प्रिय देवता हैं। उन्हें जाहरवीर बाबा गोगाजी के नाम से जाना जाता है। यह गुरु गोरखनाथ के परम शिष्य थे। महापुरुष गोगाजी जाहरवीर हिंदू, मुस्लिम, सिख सभी संप्रदायों के लोक प्रिय देवता है इसलिए इन्हे जाहर पीर के नाम से भी जाना जाता है। जाहरवीर बाबा जागृत देव हैं और अपने भक्तों की तुरंत सुनते हैं। आइये पढ़ते हैं श्री जाहरवीर बाबा की आरती (Jaharveer Baba ki Aarti)।

श्री जाहरवीर बाबा की आरती ( Jaharveer Baba ki Aarti)

जय जय जाहरवीर हरे

जय जय जाहरवीर हरे,जय जय गोगा वीर हरे।
धरती पर आ करके भक्तों के दुख दूर करे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

जो कोई भक्ति करे प्रेम सेहाँ जी करे प्रेम से।
भागे दुख परे विघ्न हरे,मंगल के दाता तन का कष्ट हरे।
जय जय जाहरवीर हरे॥

जेवर राव के पुत्र कहाये रानी बाछल माता।
बागड़ जन्म लिया वीर नेजय-जयकार करे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

धर्म की बेल बढ़ाई निश दिनतपस्या रोज करे।
दुष्ट जनों को दण्ड दियाजग में रहे आप खरे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

सत्य अहिंसा का व्रत धाराझूठ से आप डरे
वचन भंग को बुरा समझकरघर से आप निकरे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

माड़ी में तुम करी तपस्याअचरज सभी करे।
चारों दिशा में भक्त आ रहेआशा लिए उतरे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

भवन पधारो अटल क्षत्र कहभक्तों की सेवा करे।
प्रेम से सेवा करे जो कोई धन के भण्डार भरे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

तन मन धन अर्पण करकेभक्ति प्राप्त करे।
भादों कृष्ण नौमी के दिनपूजन भक्ति करे॥
जय जय जाहरवीर हरे॥

।।इति श्री जाहरवीर गोगा जी की आरती समाप्त।।

Shri Jaharveer Goga Ji Ki Aarti Samapt

Shri Jaharveer Baba ki Aarti in English

Jai Jai Jaharveer Hare, Jai Jai Goga veer Hare
Dharati par aa karake, bhakton ke dukh door kare॥
Jay Jay Jaharveer Hare॥

Jo koi bhakti kare prem se, haan ji kare prem se।
Bhaage dukh pare vighn hare, mangal ke daata tan ka kasht hare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Jevar Raav ke putr kahaaye, Raani Baachhal maata।
Baagad janm liya Veer ne, Jay-jayakaar kare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Dharm ki bel badhai nish din tapasya roj kare।
Dusht janon ko dand diya, Jag mein rahe aap khare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Saty ahinsa ka vrat dhaara, jhooth se aap dare।
Vachan bhang ko bura samajh kar ghar se aap nikare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Maadi mein tum kari tapasya, acharaj sabhi kare।
Chaaron disha mein bhakt aa rahe aasha liye utare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Bhavan padhaaro atal kshatr kaha bhakton ki seva kare।
Prem se seva kare jo koi dhan ke bhandaar bhare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

Tan man dhan arpan karake bhakti praapt kare।
Bhaadon krishn naumi ke din poojan bhakti kare॥
Jay Jay Jaaharaveer Hare॥

।।Thus Shri Jaharveer Gogaji Ji Ki Aarti Ends।।

श्री जाहरवीर गोगा जी की आरती-  Jaharveer Baba ki Aarti
Shri Jaharveer Goga ji

1.चालीसा संग्रह -९०+ चालीसायें
2.आरती संग्रह -१००+ आरतियाँ

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Happy to See you here!😀

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः