Join Adsterra Banner By Dibhu

Maha Shivaratri Vrat Story, Vidhi & Significance

5
(1)

Table of Contents

Maha Shivaratri Fast procedure, Story and Importance:(महाशिवरात्रि व्रत पूजा विधि, कथा एवम् महत्व:)

MahaShivratri is one of the largest major festivals of Sanatan dharma,  celebrated  across entire India with equal elan and fervor. MahaShivratri is celebrated with great enthusiasm, happiness and devotion in all part of country and is spreading its wings in other countries as well where the followers of Sanatan Hinduism exist. India is a vast country with diverse rituals, thousand of sects and hundreds of languages still Mahashivaratri is equally revered and worshiped in all regions of India.  All Shiva devotees are eagerly waiting for the Mahashivratri fast to celebrate on the  fourteenth day of  dark fortnight of Indian lunar month Falgun. On this day, large  a crowd of devotees starts gathering in Shiva temples from very early  morning onwards. You can easily see the unparalleled  joy, elan and buoyant spirit of of Shiva devotees is on this day. There are 12 Shivratrias in an year but amongst all of these Shivratri of Phalguna month is considered as the most prominent and important. This festival, celebrated on fourteenth day of the dark fortnight of Falgun month(Falgun Krishn Chaturdashi), is known throughout India as Maha-Shivratri . This festival is dedicated to all omnipotent Lord of Devas Mahadev. There are two main beliefs stories behind the  celebration of Maha Shivaratri. People believe that the creation of the universe was from this day. While some believe that on this day Lord Shiva’s marriage took place with Mother Parvati. Everyone and anyone can keep this fast on this day, but women and girls keep this fast with special interest. It is believed that virgin girls get the desired husband by the influence of this fast and women who are married , the life and health of their husbands will remain good and safe. Maha Shivaratri will be celebrated on 13th and 14th of this year’s 2018 .This is the biggest festival of Shiv devotees and they  start assembling in temples from the morning on the day of Mahashivaratri. As Maha Shivratri is celebrated on Chaturdashi of  Phalguna Krishna Paksha, according to the astrologers, this time the date of Chaturdashi will begin on February 13 at 22:36, which will end on 15th February 2018, 00:48. In such a way, on February 13 and 14, devotees will get the benefit of Shiva worship for two days. 14th day of fasting is considered to be favorable.

Maha Shivaratri festival worship muhurtas in 2018 :

This year (2018), On Maha-Shivaratri day, the time of worship of Shivratri Nishitha Kalam will be from 24: 09 to 25: 01+.  The period of Muhurta is in total of 51 minutes. On the next day, the time of Maha Shivratri Parana (Time of breaking the fast) will be from 07:04 to 15:20. The night before the Prahar worship time = 18:05 to 21:20 In  the second afternoon of the night, the time of worship = 21:20 to 24: 35+  nights; Third time of worship: = 24: 35+ to 27: 49+  night fourth Time of worship = 27: 49+ to 31: 04+ Chaturdashi date will begin on 13th February 2018, Mangalwalay 22:36 which will end on 15th February 2018, 00:48.

On what day should we observe the Maha Shivaratri fast?

This year the biggest problem of Shiv devotees is that on what day should the fast of Maha Shivratri be performed? Because the festival of Maha Shivratri is celebrated on the Chaturdashi date of the Krishna Paksha of Phalgun month. But on the 13th of February 2018, whole day is Trayodashi and  the date of Chaturdashi will start from midnight on 11.35 minutes. Chaturdashi will cover whole day the next day ie 14th February and will be finished only at 12.47 hrs on night. In this case, all the people are in the dilemma that  Maha Shivratri will be celebrated on February 13 or on February 14 ? The answer is given in the book “Dharamsindhu“. According to the texts, “Pardhyaranishathiathakkadesh-Vyapthu Purvediu: Sampurnatdadhyapatu Prevaav” Means that if the date of Chaturdashi should be for some time during the Nishith period and on the first day in the entire part, then the fast Shivaratri fast should be done the very first day.
Nishith Kaal – The time of the middle part of the night is called Nishith Kaal. This is on 13th February in many cities . According to this , the  fast of Maha Shivaratri will be done on 13th day in Ujjain, Mumbai, Karnataka, Tamil Nadu, Nagpur, Chandigarh and Gujarat.
This is because,  these states, the date of Chaturdashi will be considered  on the 13th February itself. Whereas in Eastern parts of  India, Nishitha period ends in 14th February, at 47 minutes, , according to the standard measures of night, Maha Shivaratri will be celebrated on February 14 in these areas.
List of cities According to the cities, the date and date of the Maha Shivratri fast:
 Cities with Maha Shivaratri Vrat on 13 February 2018:   Jammu and Kashmir, Jalandhar, Ambala, Amritsar, Hoshiarpur, Rohtak, Chandigarh, Mandi (H.P.), Shimla, Haridwar, Dehradun, Saharanpur, Meerut, Mathura, Agra, Delhi, Bikaner, Ujjain, Mumbai, Nashik, Bengaluru Cities with Maha Shivratri Vrat on 14 February 2018 –  Kanpur, Lucknow, Allahabad, Varanasi, Patna, Kolkata According to the scriptures, it is very auspicious and sacred in Mahashivaratri fast on Tuesdays, Sundays and Shivayogas.

Why do we celebrate Maha Shivratri ?

There are 12 Shivratri in the entire year, Shivaratri  falls on Krishna Chaturdashi of every month, which is the last day of the month. The Chaturdashi of  dark fortnight of Falgun Month is celebrated as  Mahashivaratri throughout India every year. Devotees arrange Lord Shankar’s marriage with mata Parvati  is done on this day in temples. According to the scriptures, Shankar Parvati was married on the Mahashivaratri day.  According to mythology, the beginning of creation started on this day due to the appearance of Agniling- Infinite beam of fire (which is the great form of Mahadev).Fasting without food or water is kept by ardent Shivadevottes throughout the day to appease Lord Shiva and to obtain spiritual progress and growth. Lord Shankar is worshiped in the temples and Jalabhishek is done. Sadhana are performed Lord Shiva is worshiped during Nishitha period. Staying awake throughout the night and worshiping Lord Shankar  renders great merit and is of  utmost importance.  Devotees ask for forgiveness for all mistakes done during the year and prayers are made for the advancement and development of the virtues, the fulfillment of desire, progress in the upcoming year, .
Pankhakshari Mantra (Om Namah Shivaay -ऊँ नमः शिवाय ) is most important on the day of Shivratri . On the day of Mahashivaratri , Shiva devotees chant the Panchakshari mantra of Lord Shiva as much as possible with all the purity of  their hearts. On MahaShivaratri day , Shiva Bhakt is closest to Lord Shankar, who is sitting in the heart. The lack of happiness,  suffering, disease, suffering and enemy suffering and sufferings of the devotees ends and they get the ultimate bliss. And the grace of Lord Bhole bestows in its full effulgence is on the devotee on Maha Shivaratri day.

Story of Mahashivaratri 

There is a story mentioned in Srimad Bhaagwat that once the deities and the demons made a plan of sea churning , according to God’s instructions, so that nectar of immortality  can be obtained. But at the time of that sea churning, the first deadly poison (poison known as Kalakut) came out. That poison was so venomous that the whole world started suffering from severe heat immediately. Demi Gods, fearless monsters became unconscious just after sniffing the fumes of poison . Bhagawan Shankar decided to drink that halalal poison for the welfare of the deities, asuras  and for the welfare of mankind. After that he took that poison in his hands and drank. But he did not swallow it and  held the poison in his throat. Due to the noxious effect  of Kalakoot poison , Lord Shiva’s  throat became blue and he was called ‘Nilkanth’- One with blue throat. Maha Shivratri is celebrated in memory of this supernatural manifestation of God.Shivaratri is the celebration of this event by which Shiva saved the world. According to another legend in the Shiva Purana, once the other two of the triads of Hindu Gods  Trinity,Lord  Brahma and Lord  Vishnu, were arguing over who was the superior of the two. To make them realize the futility of their fight, Lord Shiva assumed the form of a huge column of fire in between Brahma and Vishnu. Awestruck by its magnitude, they decided to find one end each to establish supremacy over the other. Brahma assumed the form of a swan and went upwards and Vishnu as Varaha went downward. But infirnite beam of Agnilinga had no limit and though Shri Brhama & Shri Vishnu  searched for millions of yojanas, neither could find the end. On his journey upwards, Brahma csaw a Ketaki flower wafting down slowly. He asked it where she had come from. The Ketaki replied that she didn’t know the end of this Agnilinga. Brahmaji asked it to stand a proof and to say that it  had been placed at the top of the fiery column as an offering. Lord Brahma decided to end his search and took the Ketaki flower as a witness. At this, the angry Shiva revealed his true form. He punished Brahma for telling a lie, and cursed him that no one would ever pray to him. The Ketaki flower too was banned from being used as an offering for any worship, as she had testified falsely. Lord Vishnu told the truth that the Agnilinga was infinite and was thus praised by Lord Shiva. Since it was on the 14th day in the dark half of the month of Phalguna that Shiva first manifested himself in the form of a Linga, the day is especially auspicious and is celebrated as Mahashivaratri. Worshipping Shiva on this day is believed to bestow one with happiness and prosperity. There was once a poor tribal man who used to hunt in forest to make his livelihood.. One day he went deep into the forest to hunt was caught storm while trying to return back.He lost his way   and was stuck in jungle. It was already evening time by then. As darkness fell, he heard the growls of wild animals. Terrified, he climbed onto the nearest tree for shelter till day-break. It was Baled tree (Wood Apple tree). He climbed high and hid himself in the leaves and branches. Hungry and tired he was afraid that he would fell of the tree. He kept on remembering God and tried to remain awake lest he should fall from the tree.  Perched amongst the branches and thick leaves, he started plucking leaves and throwing it on ground to pass time and  to stay awake. He was constantly remembering  God and could not sleep at all due to fear and cold weather. The place his leaves were dropping below tree,  there was an old Shivalinga hidden on forest bed. By the next day morning the hunter  realized that he had dropped a thousand leaves onto a Linga to keep himself awake, he  plucked couple of leaves at a time from the tree and dropped it below which he had not seen in the dark. Incidentally it was the holy night of Mahashivaratri. Staying hungry, remembering Lord and act of  offering Beale leaves to Shivalinga  together  constituted a great penance for the tribal hunter. This unwitting all-night worship pleased Shiva, by whose grace the tribal  hunter was absolved from his sins and rewarded with divine salvation. This story is also recited on Mahashivaratri by devotees on fast. After observing the all night fast, devotees eat the Prasad offered to Shiva.

MahaShivaratri Worship:

The devotees come to the temples of Lord Shiva to worship traditional Shivling and pray to God. Devotees offer  Dhatura’s fruit, bell leaf, cannabis, bell, flower of a statue, flowers of Dhatura on holy Shivlinga. Besides these, on this day according to old belief and scriptures, six things must be included in Mahashivaratri Pooja:
  • Abhishek with Shiv Ling’s water, milk and honey. Plum or vine leaves which represent the purification of soul;
  • After the vermilion paste bath, Shiv Ling is applied. It represents virtue;
  • Fruits, which reflect the longevity and satisfaction of desires;
  • Burning incense, wealth, yield (grain);
  • The lamp which is favorable for the knowledge gained;
  • And the leaves of paan which are satisfying with worldly pleasures.
Jalavishak or Rudrabhishek is very important on the day of Shivratri. In order to please Shiva, Jalabhishek or Rudrubhishek is done for the wishes.Lord Shiva is anointed in various ways on the day of Mahashivaratri. Mainly, two types of Abhishek does every devotee. Jalabhishek  : water and  Dugdhabhisek  : milk. Apart from this, different types of anointing can also be done, which have different effects. Whose details are as follows:

Types of Rudrabhishek on the occasion of Maha Shivratri and the benefits that come from them:

  1. Anointing Lord Shiva with Kushodak to calm the diseases.
  2. Make garnet juice for the building vehicle and get sugarcane juice for Lakshmi.
  3. Anointing with honey and ghee for wealth enhancement.
  4. From child to milk, and if the offspring are born and born, then the progeny receives a good child by the ancestral one.
  5. By raising the Sahasranama mantras, there is an increase in the clan from the stream of grass.
  6.  The enemy is defeated by the anointed with mustard oil.
  7.  Mixing sugar is an inebriate scholar with anointing of milk.

How is Shivaratri celebrated?

The festival of Shivratri is celebrated with great fervor and joy. On this day, all the devotees wake up in the morning and go to the temple of Lord Shiva after bathing. Devotees offer milks Shivling and thus performing Abhishekam. After this they offer flowers to the Shiva and chant hymns in his praise.People offer bellettes, cannabis, dhatura, and other such fruits and flowers. It is believed that compared to ordinary fruits and sweets, Shiva ji likes these wild fruits more. Dhatura and Baelpatra (Bael tree leaves)  are very important on Shivalinga on this day. After this, God is pleased with some sweet thing. After offering prasadam,  incense sticks are burnt and diya is shown.Devotees sing hymns of Lord Shiva’s praises and perform Aarti of Shiva . The fasting is very crucial and is said to render great merits on this this day.

Points to note in Maha Shivaratri worship:

The festival of Mahashivaratri is very important for the devotees. It is believed that if Lord Shiva is worshiped complete faith and concentration and wholeheartedness on this day, then the desire of devotees is definitely fulfilled. The festival of Mahashivaratri holds great importance for the devotees. But, inadvertently, if people make some mistakes which does not fulfill their worship. If for some reason there is a mistake in worshiping, Bholainath becomes angry too. Following mistakes has been described in Shiva Purana which should not be committed while worshiping.
  • If you want to please Lord Shiva on Shivratri day then do not wear black colored clothes on this day. It is said that Lord Shiva does not like black color, which should not wear black clothes on this day.
  • On Shivratri, you should eat plain food i.e. not consuming meat. This day should avoid killing the creatures. Then your worship will be fulfilled.
  • For getting the grace of this Shivaratri Bholeari, sacrifice the anger, that is, during the fasting of Shivratri, do not quarrel with anyone without any reason. Chant the mantras of the Om Namah
  • If you want Lord Shiva to bless this Shivratri with special grace, then offer water on Shivaalinga in the morning. The time of the morning is appropriate for worship. It is considered inauspicious to get late from the day of Shivratri.
  • On the day of Shivratri, there should be no physical connection between husband and wife. Shiva-Parvati should worship this day with calm and pure mind.
  • Never should anyone call harsh words on Shivratri day or else your worship will not be acceptable. On Shivratri, this thing should be especially taken care of not to quarrel or to quarrel outside the house.
  • In the worship of Shiva, the utensils mentioned by the scriptures should be used. Iron, steel and plastic utensils should not be used by forgetting in worship. Experiment with copper.
  • Lord Shiva loves white flowers very much, but despite the white of ketki being white, Bholainath should not be offered in the worship.
  • While worshiping Lord Shiva, water should not be offered to the conch.
  • The use of Tulsi in worship of Lord Shiva is considered taboo.
  • Mole is not offered in worship of Shiva. Sesame is believed to originate from Lord Vishnu’s scum, hence the mole is offered to Lord Vishnu but does not ascend to Shiva.
  • Broken rice should not be offered by forgetting Lord Shiva’s worship.
  • On Shivaratri, coconut water should not be supplied on Shivling. Shiva can offer coconut on the statue, but no water of coconut.
  • Turmeric and Kumkum are symbols of origin, so they should not be used in worship.
  • All three letters of the letter should be completed, never send the fragmented letter.
  • Rice should be white in color, broken rice is prohibited in worship.
  • Flowers are not stale and dead.
On this day, one should worship Lord Bholenath  with complete reverence, and keep a fast for Shivratri, your wish will be fulfilled. “Bomb Bom Bhole” Jai Shivshankar.

महाशिवरात्रि व्रत पूजा विधि, कथा एवम् महत्व:

महा शिवरात्रि भारत के महाशिवरात्रि, सनातन हिन्दू धर्म में मनाया जाने वाला सबसे बड़े प्रमुख त्यौहारों में से एक है,  जिसे पुरे भारत में बड़े उत्साह , प्रसन्नता  और भक्ति भाव के साथ के साथ मनाया जाता है।  महाशिवरात्रि संपूर्ण भारत के  सभी भागों में समान रूप से गरिमा मंडित और पूजित पर्व है|  । फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाने वाले महाशिवरात्रि व्रत का इंतजार सभी शिव भक्त बड़ी बेसब्री से करते है। इस दिन प्रातःकाल से ही शिव मंदिरों में भक्तों की भीड़ जुटने लगती है। शिव भक्तों का हर्षोल्लास इस दिन देखते ही  बनता है| वैसे तो वर्ष भर में 12 शिवरात्रियां आती है लेकिन इन सभी में फाल्गुन माह की शिवरात्रि को सबसे प्रमुख और महत्वपूर्ण माना जाता है। फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को मनाया जाने वाला यह त्यौहार पुरे भारत में महा-शिवरात्रि के नाम से प्रसिद्ध है। यह पर्व देवों के देवों महादेव को समर्पित है। जिसके पीछे मुख्यतः दो मान्यताएं मानी जाती है। लोगों की मान्यता है की सृष्टि का प्रारंभ इसी दिन से हुआ था। जबकि कुछ का मानना है की इस दिन भगवान शिव का विवाह माता पार्वती से हुआ था। वैसे तो इस व्रत को कोई भी रख सकता है लेकिन महिलाएं और लड़कियां इस व्रत को विशेष रूचि से रखती है। माना जाता है, इस व्रत के प्रभाव से कुंवारी लड़कियों को मनचाहा वर प्राप्त होता है और जिन महिलाओं का विवाह हो चुका है उनके पति का जीवन और स्वास्थ्य हमेशा अच्छा रहता है। शिवभक्तों का सबसे बड़ा त्यौहार  महाशिवरात्रि इस बार 13 और 14 तारीख को मनाया जाएगा। महाशिवरात्रि के दिन सुबह से ही शिवभक्त मंदिरों में जुटने लगते हैं। शिवरात्रि फाल्गुन कृष्ण पक्ष में चतुर्दशी को मनाई जाती है। ज्योतिष के जानकारों की मानें तो इस बार चतुर्दशी तिथि 13 फरवरी मंगवलार 22:36 से प्रारंभ होगी, जो 15 फरवरी 2018, 00:48 बजे खत्म होगी। ऐसे में 13 और 14 फरवरी को दो दिन तक शिव उपासना का लाभ भक्तों को मिलेगा। व्रत करने लिए 14 तारीख का दिन ही अनुकूल माना जा रहा है।

वर्ष 2018 में महाशिवरात्रि पर्व  पूजा  का मुहूर्त

इस दिन शिवरात्रि निशिता काल पूजा का समय 24:09+ से 25:01+ तक होगा।  मुहूर्त की अवधि कुल 51 मिनट की है। 14th तारीख, को महा शिवरात्रि पारण का समय 07:04 से 15:20 तक होगा। रात्रि पहले प्रहर पूजा का समय = 18:05 से 21:20 रात के दूसरा प्रहर में पूजा का समय = 21:20 से 24:35+ रात्रि तीसरा प्रहर पूजा का समय = 24:35+ से 27:49+ रात्रि चौथा प्रहर पूजा का समय = 27:49+ से 31:04+ चतुर्दशी तिथि 13 फरवरी 2018, मंगवलार 22:36 से प्रारंभ होगी जो 15 फरवरी 2018, 00:48 बजे खत्म होगी।

महाशिवरात्रि व्रत किस दिन किया जाए?

लेकिन इस साल शिवभक्तों की सबसे बड़ी समस्या यही है की महाशिवरात्रि का व्रत किस दिन किया जाए? क्योंकि महाशिवरात्रि का पर्व फाल्गुन माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी तिथि को मनाई जाती है। लेकिन साल 2018 में 13 फरवरी को पुरे दिन त्रयोदशी तिथि है और मध्यरात्रि में 11 बजकर 35 मिनट से चतुर्दशी तिथि प्रारंभ होगी। जो अगले दिन यानी 14 फरवरी को पुरे दिन रहेगी और रात 12 बजकर 47 मिनट पर समाप्त होगी। ऐसे में सभी लोग इसी दुविधा में है की महाशिवरात्रि 13 फरवरी को मनाई जाए या 14 फरवरी को? जिसका उत्तर धर्मसिंधु नामक ग्रन्थ में दिया गया है। ग्रंथानुसार, “परेद्युर्निशीथैकदेश-व्याप्तौ पूर्वेद्युः सम्पूर्णतद्व्याप्तौ पूर्वैव।।” अर्थात चतुर्दशी तिथि दुसरे दिन निशिथ काल में कुछ समय के लिए हो और पहले दिन सम्पूर्ण भाग में तो पहले दिन ही इस व्रत को करना चाहिए।
निशीथ काल – रात्री के मध्य भाग के समय को कहा जाता है जो 13 तारीख को कई शहरों में अधिक समय तक है। जिसके मुताबिक उज्जैन, मुंबई, कर्णाटक, तमिलनाडु, नागपुर, चंडीगढ़, गुजरात में महाशिवरात्रि का व्रत 13 तारीख को किया जाएगा।
ऐसा इसलिए क्योंकि इन राज्यों में 13 तारीख को ही चतुर्दशी तिथि सम्पूर्ण रूप से निशीथ व्यापित रहेगी। जबकि पूर्वी भारत में रात्रिमान के अनुसार निशीथ काल 14 फरवरी 12 बजकर 47 मिनट पर समाप्त हो रही है इसलिए इन क्षेत्रों में महाशिवरात्रि 14 फरवरी को मनाई जाएगी।
शहरों के अनुसार महाशिवरात्रि व्रत तिथि और तारीख:
 शिवरात्रि व्रत 13 फरवरी 2018 वाले शहर-  जम्मू, जालन्धर, अंबाला , अमृतसर, होशियारपुर, रोहतक, चंडीगढ़,  मंडी (हि.प्र.),शिमला,  हरिद्वार,देहरादून, सहारनपुर ,मेरठ, मथुरा, आगरा, दिल्ली, बीकानेर, उज्जैन,मुंबई,नासिक, बेंगुलुरु शिवरात्रि व्रत 14 फरवरी 2018 वाले शहर – कानपुर , लखनऊ ,इलाहाबाद , वाराणसी,  पटना, कोलकाता शास्त्रों के अनुसार महाशिवरात्रि व्रत मंगलवार, रविवार और शिवयोग में यह अत्यंत शुभ और पुण्यदायी होता है।

महाशिवरात्रि क्यों मनाते हैं?

पुरे साल में १२ शिवरात्रि होता है, शिवरात्रि हरेक महीने कृष्ण चतुर्दशी को होता है , जो कि माह का अंतिम दिन होता है । माघ मास की कृष्ण चतुर्दशी, महाशिवरात्री के रूप में पुरे भारत वर्ष में मनाई जाती है। मंदिरों में इस दिन भगवान् शंकर की शादी का भी कार्यकर्म किया जाता है। शास्त्रों के अनुसार इसी दिन शंकर पार्वती का विवाह हुआ था । पौराणिक कथाओं के अनुसार इस दिन सृष्टि का आरम्भ अग्निलिङ्ग ( जो महादेव का विशालकाय स्वरूप है ) के उदय से हुआ। भगवान् शंकर को खुश करने के लिए पुरे दिन का व्रत रखा जाता है और मंदिरों में भगवान् शंकर की पूजा की जाती है और जलाभिषेक निशिथ काल में भगवान् शिव की साधना और पूजा की जाती है। इस दिन रात्रि जागरण करके भगवान् शंकर की पूजा करने का अत्यधिक महत्व है। एवं इस दिन पूरे साल में हुई गलतियों के लिए भगवान शंकर से क्षमा याचना की जाती है तथा आने वाले वर्ष में उन्नति एवं सदगुणों के विकास, मनोकामना की पूर्ति के लिए प्रार्थना की जाती है।
शिवरात्रि के दिन सबसे जो महत्वपूर्ण होता है वो है पंचाक्षरी मंत्र, (पंचाक्षरी मंत्र मन्त्र की जानकारी नीचे दे रहे हैं ) महाशिवरात्रि के दिन शिव भक्त जितना भगवान शिव के पंचाक्षरी मंत्र का जप कर लेता है उतना ही उसके अंतकरण की शुद्धि होती जाती है और शिवभक्त अंतःकरण में विराजमान भगवान् शंकर के सबसे करीब होता है। भक्तों के दरिद्रता, रोग, दुख एवं शत्रुजनित पीड़ा एवं कष्टों का अंत हो जाता है एवं उसे परम आनंद कि प्राप्ति होती है। और भगवान भोले की कृपा भक्त पर होती है।

महाशिवरात्रि की कहानी

श्रीमद् भागवत में एक प्रसंग है कि एक बार देवताओं और दैत्यों ने मिल कर भगवान के निर्देशानुसार समुद्र मंथन की योजना बनाई ताकि अमृत प्राप्त किया जा सके। परंतु उस समुद्र मंथन के समय सबसे पहले हलाहल विष (कालकूट नामक विष) निकला था। वह विष इतना विषैला था कि उससे समस्त जगत भीषण ताप से पीड़ित हो गया था। देव-दैत्य बिना पिए उसको सूंघते ही बेसुध से हो गए। देवताओं की प्रार्थना पर और मानव के कल्याण के लिए उस हलाहल विष को भगवान् शंकर ने पीने का निर्णय लिया। उसके बाद अपने हाथों  में उस विष को लिया व पी गए। किंतु उसको निगला नहीं और विष अपने गले में ही रोक लिया। जिसके प्रभाव से आपका गला नीला हो गया और  नीलकंठ कहलाए। भगवान् की इसी अलौकिक चेष्टा की याद में  श्री शिवरात्रि  मनाई जाती है।

महाशिवरात्रि अनुष्ठान

भक्त भगवान  शिव के मंदिरों में पारंपरिक शिवलिंग पूजा करने के लिए आते हैं और ईश्वर से प्रार्थना करते हैं।  शिवलिंग पर चढाने के लिए धतूरे का फल, बेलपत्र, भांग, बेल, आंक का फूल, धतूरे का फूल लाते है, इसके अलावा इस दिन पुरानी मान्यता और शास्त्र के अनुसार, महाशिवरात्रि पूजा में छह वस्तुओं को अवश्य शामिल करना चाहिए:
  • शिव लिंग का पानी, दूध और शहद के साथ अभिषेक। बेर या बेल के पत्ते जो आत्मा की शुद्धि का प्रतिनिधित्व करते हैं;
  • सिंदूर का पेस्ट स्नान के बाद शिव लिंग को लगाया जाता है। यह पुण्य का प्रतिनिधित्व करता है;
  • फल, जो दीर्घायु और इच्छाओं की संतुष्टि को दर्शाते हैं;
  • जलती धूप, धन, उपज (अनाज);
  • दीपक जो ज्ञान की प्राप्ति के लिए अनुकूल है;
  • और पान के पत्ते जो सांसारिक सुखों के साथ संतोष अंकन करते हैं।
महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव का अभिषेक अनेकों प्रकार से किया जाता है।मुख्यतः दो प्रकार के अभिषेक हर भक्त करता है|जलाभिषेक : जल से और दुग्‍धाभिषेक : दूध से। इसके अलावा अन्या प्रकार के अभिषेक भी कर सकते हैं, जिनक अलग अलग प्रभाव होता है| जिसका विवरण निम्न है:

महा शिवरात्रि के अवसर पर रुद्राभिषेक के प्रकार और उनसे होने वाले लाभ:

  1. रोगों को शांत करने के लिए भगवान शिव का कुशोदक से अभिषेक करें।
  2. भवन वाहन के लिए दही एवं लक्ष्मी प्राप्ति के लिए गन्ने के रस से करें।
  3. धन वृद्धि के लिए शहद एवं घी से अभिषेक करें।
  4. पुत्र प्राप्ति के लिए दुग्ध से और यदि संतान उत्पन्न होकर मृत पैदा हो तो गोदुग्ध से अभिषेक द्वारा योग्य संतान-प्राप्ति होती है।
  5. सहस्रनाम मंत्रों का उच्चरण करते हुए घृत की धारा से वंश वृद्धि होती है।
  6.  सरसों के तेल से अभिषेक द्वारा शत्रु पराजित होता है।
  7.  शर्करा मिलाकर दूध के अभिषेक से जड़बुद्धि विद्वान होता है।
इस दिन आप पूरी श्रद्धा के साथ भगवान् भोले की पूजा अर्चना करें, और शिवरात्रि का व्रत रखें, आपकी मनोकामना पूर्ण होगी। “बम बम भोले” जय शिवशंकर।

कैसे मनाई जाती है शिवरात्रि?

शिवरात्रि का पर्व बड़े ही धूम धाम और हर्षोल्लास के साथ मनाया जाता है। इस दिन सभी भक्त  प्रातः काल जागकर स्नान आदि करके भगवान शिव के मंदिर जाते है। वहां शिवलिंग का जलाभिषेक कर दुग्धाभिषेक करते है। इसके बाद वे शिव जी को फूल आदि अर्पित कर उन्हें टीका लगाते है। तत्पश्चात वे उन्हें बेलपत्र, भांग, धतूरा, आख आदि फल-फूल चढाते है। माना जाता है सामान्य फलों और मिठाइयों की तुलना में शिव जी ये जंगली फल अधिक पसंद आते है। इस दिन शिवलिंग पर धतूरा और बेलपत्र चढ़ाने का खास महत्व होता है। इसके बाद भगवान को किसी मीठी चीज से भोग लगाते है। भोग लगाने के पश्चात् धूप दीप आदि जलाकर उनकी पूजा अर्चना करते है और शिव जी की आरती की जाती है।इस दिन उपवास रखने का अति विशेष  महत्व होता है। शिवरात्रि के दिन जलाभिषेक या रुद्राभिषेक का बहुत महत्व है। शिव जी प्रसन्न करने के लिए, कामनाओं की पूर्ति के लिए जलाभिषेक या रुद्राभिषेक किया जाता है|

महाशिव रात्रि पूजा में ध्यान देने वाली सावधानियाँ :

महाशिवरात्रि का त्यौहार शिवभक्तों के लिए बहुत महत्वपूर्ण रखता है। ऐसा माना जाता है कि इस दिन अगर पूरे मन से भगवान शिव की आराधना की जाए तो भक्तों की मनोकामना जरूर पूरी होती है।महाशिवरात्रि का त्यौहार शिवभक्तों के लिए बहुत महत्व रखता है। लेकिन भूलवश शिव जी को प्रसन्न के लिए ऐसी कुछ गलतियां कर देते हैं जिससे उनकी पूजा पूरी नहीं हो पाती है। किसी कारण से पूजा करते समय कोई भूल हो जाए तो भोलेनाथ क्रोथित भी हो जाते हैं। शिवपुराण में कुछ काम ऐसे बताए गए हैं जिसको पूजा करते समय नहीं करना चाहिए।
  • पहली बात, शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को यदि प्रसन्न करना चाहते हैं तो इस दिन काले रंग के कपड़े ना पहनें। कहा जाता है की भगवान शिव को काला रंग पसन्द नहीं है, जिसके कारण इस दिन काले कपड़े नहीं पहनने चाहिए।
  • शिवरात्रि पर आपको सादा भोजन करना चाहिए यानि मांसाहार का सेवन नहीं करना चाहिए। इस दिन जीव हत्या से बचना चाहिए। तभी आपकी पूजा पूरी मानी जाएगी।
  • इस शिवरात्रि भोले भण्डारी की कृपा पाने के लिए क्रोध का त्याग करें यानि कि शिवरात्रि में व्रत रखने के दौरान किसी से बिना वजह लड़ाई झगड़ा न करें। शांत मन से पूरे दिन ओम नम: शिवाय के  मंत्रों का जप करें।
  • अगर आप चाहते है कि इस शिवरात्रि को भगवान शिव आपके ऊपर विशेष कृपा  बरसाएं तो सुबह ही शिवलिंग पर जल चढ़ाएं। पूजा के लिए सुबह का समय उपयुक्त होता है। शिवरात्रि के दिन देर से उठना अशुभ माना जाता है।
  • शिवरात्रि के दिन पति-पत्नी के बीच शारीरिक संबंध नहीं बनाना चाहिए। इस दिन  शांत और शुद्ध मन से शिव-पार्वती की पूजा करना चाहिए।
  • शिवरात्रि के दिन कभी भी किसी को कठोर शब्द नहीं कहना चाहिए अन्यथा आपकी पूजा स्वीकार्य नहीं होगी। शिवरात्रि पर इस बात का विशेषतौर पर ध्यान रखना चाहिए घर में किसी सदस्य से या फिर बाहर झगड़ा नहीं करना चाहिए।
  • शिवजी की पूजा में शास्त्रों द्वारा बताए गए बर्तनों का उपयोग करना चाहिए। पूजा में भूलकर भी लोहे,स्टील और प्लास्टिक के बर्तन का उपयोग नहीं करना चाहिए। तांबे का पात्र प्रयोग करें |
  • भगवान शिव को सफेद फूल बहुत पसंद होता है, लेक‌िन केतकी का फूल सफेद होने के बावजूद भोलेनाथ की पूजा में नहीं चढ़ाना चाहिए।
  • भगवान शिव की पूजा करते समय शंख से जल अर्प‌ित नहीं करना चाहिए।
  • भगवान शिव की पूजा में तुलसी का प्रयोग वर्ज‌ित माना गया है।
  • शिव की पूजा में तिल नहीं चढ़ाया जाता है। तिल भगवान व‌िष्‍णु के मैल से उत्पन्न हुआ माना जाता है, इसल‌िए भगवान व‌िष्‍णु को त‌िल अर्प‌ित क‌िया जाता है लेक‌िन श‌िव जी को नहीं चढ़ता है।
  • भगवान शिव की पूजा में भूलकर भी टूटे हुए चावल नहीं चढ़ाया जाना चाहिए।
  • शिवरात्रि के दिन शिवलिंग पर नारियल का पानी नहीं चढ़ाना चाहिए। शिव प्रतिमा पर नारियल चढ़ा सकते हैं, लेकिन नारियल का पानी नहीं।
  • हल्दी और कुमकुम उत्पत्ति के प्रतीक हैं, इसलिए पूजन में इनका प्रयोग नहीं करना चाहिए।
  • बिल्व पत्र के तीनों पत्ते पूरे होने चाहिएं, खंडित पत्र कभी न चढ़ाएं।
  • चावल सफेद रंग के साबुत होने चाहिएं, टूटे हुए चावलों का पूजा में निषेध है।
  • फूल बासी एवं मुरझाए हुए न हों।

Buy Shiv Chalisa, Aarti & Vishwanathshtakam

Buy Bhagwan Shiv Chalisa, Shiv Aarti & Shri Vishwanathashtakam eBook with meaning in English & Hindi

English-Shri-Shiv-ChaleesaAratiVishvanathastak-Meaning-Dibhu-manuscript_New_02
Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः