May 30, 2023

माता श्री काली चालीसा-2

0
0
(0)

माता श्री काली चालीसा-2

॥दोहा॥

जय जय सीताराम के मध्यवासिनी अम्ब,
देहु दर्श जगदम्ब अब करहु न मातु विलम्ब ॥
जय तारा जय कालिका जय दश विद्या वृन्द,
काली चालीसा रचत एक सिद्धि कवि हिन्द ॥
प्रातः काल उठ जो पढ़े दुपहरिया या शाम,
दुःख दरिद्रता दूर हों सिद्धि होय सब काम ॥

॥चौपाई॥

जय काली कंकाल मालिनी, जय मंगला महाकपालिनी ॥
रक्तबीज वधकारिणी माता, सदा भक्तन की सुखदाता ॥

शिरो मालिका भूषित अंगे, जय काली जय मद्य मतंगे ॥
हर हृदयारविन्द सुविलासिनी, जय जगदम्बा सकल दुःख नाशिनी ॥ ४ ॥

Dibhu.com-Divya Bhuvan is committed for quality content on Hindutva and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supportting us more often.😀


ह्रीं काली श्रीं महाकाराली, क्रीं कल्याणी दक्षिणाकाली ॥
जय कलावती जय विद्यावति, जय तारासुन्दरी महामति ॥

देहु सुबुद्धि हरहु सब संकट, होहु भक्त के आगे परगट ॥
जय ॐ कारे जय हुंकारे, महाशक्ति जय अपरम्पारे ॥ ८ ॥

कमला कलियुग दर्प विनाशिनी, सदा भक्तजन की भयनाशिनी ॥
अब जगदम्ब न देर लगावहु, दुख दरिद्रता मोर हटावहु ॥

जयति कराल कालिका माता, कालानल समान घुतिगाता ॥
जयशंकरी सुरेशि सनातनि, कोटि सिद्धि कवि मातु पुरातनी ॥ १२ ॥

कपर्दिनी कलि कल्प विमोचनि, जय विकसित नव नलिन विलोचनी ॥
आनन्दा करणी आनन्द निधाना, देहुमातु मोहि निर्मल ज्ञाना ॥

करूणामृत सागरा कृपामयी, होहु दुष्ट जन पर अब निर्दयी ॥
सकल जीव तोहि परम पियारा, सकल विश्व तोरे आधारा ॥ १६ ॥

प्रलय काल में नर्तन कारिणि, जग जननी सब जग की पालिनी ॥
महोदरी माहेश्वरी माया, हिमगिरि सुता विश्व की छाया ॥

स्वछन्द रद मारद धुनि माही, गर्जत तुम्ही और कोउ नाहि ॥
स्फुरति मणिगणाकार प्रताने, तारागण तू व्योम विताने ॥ २० ॥

श्रीधारे सन्तन हितकारिणी, अग्निपाणि अति दुष्ट विदारिणि ॥
धूम्र विलोचनि प्राण विमोचिनी, शुम्भ निशुम्भ मथनि वर लोचनि ॥

सहस भुजी सरोरूह मालिनी, चामुण्डे मरघट की वासिनी ॥
खप्पर मध्य सुशोणित साजी, मारेहु माँ महिषासुर पाजी ॥ २४ ॥

अम्ब अम्बिका चण्ड चण्डिका, सब एके तुम आदि कालिका ॥
अजा एकरूपा बहुरूपा, अकथ चरित्रा शक्ति अनूपा ॥

कलकत्ता के दक्षिण द्वारे, मूरति तोरि महेशि अपारे ॥
कादम्बरी पानरत श्यामा, जय माँतगी काम के धामा ॥ २८ ॥

कमलासन वासिनी कमलायनि, जय श्यामा जय जय श्यामायनि ॥
मातंगी जय जयति प्रकृति हे, जयति भक्ति उर कुमति सुमति हे ॥

कोटि ब्रह्म शिव विष्णु कामदा, जयति अहिंसा धर्म जन्मदा ॥
जलथल नभ मण्डल में व्यापिनी, सौदामिनी मध्य आलापिनि ॥ ३२ ॥

झननन तच्छु मरिरिन नादिनी, जय सरस्वती वीणा वादिनी ॥
ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे, कलित कण्ठ शोभित नरमुण्डा ॥

जय ब्रह्माण्ड सिद्धि कवि माता, कामाख्या और काली माता ॥
हिंगलाज विन्ध्याचल वासिनी, अटठहासिनि अरु अघन नाशिनी ॥ ३६ ॥

कितनी स्तुति करूँ अखण्डे, तू ब्रह्माण्डे शक्तिजित चण्डे ॥
करहु कृपा सब पे जगदम्बा, रहहिं निशंक तोर अवलम्बा ॥

चतुर्भुजी काली तुम श्यामा, रूप तुम्हार महा अभिरामा ॥
खड्ग और खप्पर कर सोहत, सुर नर मुनि सबको मन मोहत ॥ ४० ॥

तुम्हारी कृपा पावे जो कोई, रोग शोक नहिं ताकहँ होई ॥
जो यह पाठ करै चालीसा, तापर कृपा करहिं गौरीशा ॥

॥दोहा॥

जय कपालिनी जय शिवा, जय जय जय जगदम्ब,
सदा भक्तजन केरि दुःख हरहु, मातु अविलम्ब ॥

1.चालीसा संग्रह -९०+ चालीसायें
2.आरती संग्रह -१००+ आरतियाँ

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!