Join Adsterra Banner By Dibhu

सरस्वती माता जी की आरती-3| हे शारदे कहाँ तू बीणा बजा रही है

0
(0)

यह सरस्वती माता जी की बहुत लोकप्रिय आरती है। इस आरती की शुरुआत ‘हे शारदे कहाँ तू वीणा बजा रही है’ मुखड़े से होती है। माँ सरस्वती को माँ शारदा भी कहा जाता है। नीचे दिए गए वीडियो में इस आरती को सुनना न भूलें।

श्री सरस्वती माता जी की आरती-3| हे शारदे कहाँ तू बीणा बजा रही है

हे शारदे! कहाँ तू बीणा बजा रही है |
किस मंजुज्ञान से तू जग को लुभा रही है |

किस भाव में भवानी तू मग्न हो रही है,
विनती नहीं हमारी क्यों मात सुन रही है |

हम दीन बाल कब से विनती सुना रहे हैं,
चरणों में तेरे माता हम सिर नवा रहे हैं |

अज्ञान तुम हमारा माँ शीघ्र दूर कर दे,
द्रुत ज्ञान शुभ्र हम में माँ शारदे तू भर दे |

बालक सभी जगत के सुत मात है तिहारे,
प्राणों से प्रिय तुझे है हम पुत्र सब दुलारे |

हमको दया मयी ले गोद में पढ़ाओ,
अमृत जगत का हमको मां शारदे पिलाओ |

ह्रदय रुपी पलक में करते है आहो जारी,
हर क्षण ढूंढते है माता तेरी सवारी |

मातेश्वरी तू सुन ले सुन्दर विनय हमारी,
करके दया तू हरले बाधा जगत की सारी |

।।इति श्री सरस्वती माता जी की आरती समाप्त।।

Saraswati Mata Ki Arati In English | He Sharade Kaha Tu Veena Baja Rahi hai

He Sharade! Kahan Tu Bina Baja Rahi Hai |
Kis Manjugyan Se Tu Jag Ko Lubha Rahi Hai |

Kis Bhav Mein Bhavani Tu Magn Ho Rahi Hai,
Vinati Nahin Hamari Kyon Mat Sun Rahi Hai |

Ham Din Bal Kab Se Vinati Suna Rahe Hain,
Charanon Mein Tere Mata Ham Sir Nava Rahe Hain |

Agyan Tum Hamara Man Shighr Dur Kar De,
Drut Gyan Shubhr Ham Mein Man Sharade Tu Bhar De |

Balak Sabhi Jagat Ke Sut Mat Hai Tihare,
Pranon Se Priy Tujhe Hai Ham Putr Sab Dulare |

Hamako Daya Mayi Le God Mein Padhao,
Amrt Jagat Ka Hamako Man Sharade Pilao |

Hraday Rupi Palak Mein Karate Hai Aho Jari,
Har Kshan Dhundhate Hai Mata Teri Savari |

Mateshvari Tu Sun Le Sundar Vinay Hamari,
Karake Daya Tu Harale Badha Jagat Ki Sari |

।।Thus Shri Saraswati Mata Ji Ki Arati Ends।।

Mata evam Guru Mahadevi Saraswati
Mata evam Guru Mahadevi Saraswati

सरस्वती माता जी की इसी आरती को Youtube पर सुनें:

सरस्वती माता जी की आरती का प्रभाव| Saraswati Mata Aarti Benefits in Hindi

सरस्वती माता जी की आरती के नियमित आरती पाठ से मन को शांति मिलती है, बुद्धि, विवेक ,चातुर्य का विकास होता है । और आपके जीवन से नकारात्मकता नष्ट होती है। बाधायें दूर होती हैं और आप बुद्धिमान, स्वस्थ, धनवान, समृद्ध और सम्मान को प्राप्त करते हैं। नियमित आरती के प्रभाव से देवी माँ सरस्वती प्रसन्न होती हैं और मनोकांक्षा को पूर्ण करने में सहायक होती हैं।

सरस्वती माता जी की आरती का महत्व| Saraswati Mata Aarti Importance in Hindi

सरस्वती माता जी की आरती वंदना के समय माँ साक्षात उपस्थित होती हैं और भक्तों की प्रार्थना को सुनती हैं। अतएव आरती के समय उच्छृंखलता का त्याग करके , पूरे मन से , भक्ति भाव से माता सरस्वती की आरती गायें। इससे माता प्रसन्न होकर शीघ्र आपके कर्म बंधन को काटकर आपके प्रगति का मार्ग प्रशस्त करेंगी। आरती खूब मन से, संगीत व वाद्य यंत्रो की ध्वनि के साथ गाना चाहिए।

सरस्वती माता जी की आरती कब करें| When To Do Saraswati Mata Aarti in Hindi

सरस्वती माता जी की आरती का पाठ माँ की किसी भी पूजा के उपरांत किया जाता है। फिर भी आरती का विधान तीनो संध्याओं में अर्थात सुबह , दोपहर – मध्यान्ह और संध्या में करने का है। श्रद्धा के अनुसार उपरोक्त किन्ही भी अवसरों पर आप सरस्वती माता जी की आरती कर सकते हैं। अन्य विशेष अवसर जैसे सरस्वती पूजा माघ माह के शुक्ल पक्ष की पंचमी​ तिथि को वसंत पंचमी का पर्व पर आयोजित की जाती है। इस अवसर पर भी पूजा के उपरांत सरस्वती माता की आरती गायी जाती है।

माता सरस्वती के बारे में और पढ़ें

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Happy to See you here!😀

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः