Join Adsterra Banner By Dibhu

श्री कुबेर जी की आरती|Kuber Ji Ki Aarti

5
(2)

पांच दिवसीय त्यौहार दिवाली का आरम्भ धनतेरस से ही माना जाता है।पहला दिन धनतेरस, तो अगले दिन रूप चतुर्दशी तो तीसरे दिन दिवाली मनाई जाती है। केवल धनतेरस ही नहीं वरन पूरी दिवाली में की धन के देवता कुबेर जी की पूजा होती है। इस अवसर पर श्री कुबेर जी की आरती (Kuber Ji Ki Aarti)गाना अति शुभ फलदायी होती है।

श्री कुबेर जी की आरती

आरती ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे,स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे।
शरण पड़े भगतों के,भण्डार कुबेर भरे॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

शिव भक्तों में भक्त कुबेर बड़े,स्वामी भक्त कुबेर बड़े।
दैत्य दानव मानव से,कई-कई युद्ध लड़े॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

स्वर्ण सिंहासन बैठे,सिर पर छत्र फिरे, स्वामी सिर पर छत्र फिरे।
योगिनी मंगल गावैं,सब जय जय कार करैं॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

गदा त्रिशूल हाथ में,शस्त्र बहुत धरे, स्वामी शस्त्र बहुत धरे।
दुख भय संकट मोचन,धनुष टंकार करें॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

भांति भांति के व्यंजन बहुत बने,स्वामी व्यंजन बहुत बने।
मोहन भोग लगावैं,साथ में उड़द चने॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

बल बुद्धि विद्या दाता,हम तेरी शरण पड़े, स्वामी हम तेरी शरण पड़े
अपने भक्त जनों के,सारे काम संवारे॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

मुकुट मणी की शोभा,मोतियन हार गले, स्वामी मोतियन हार गले।
अगर कपूर की बाती,घी की जोत जले॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

यक्ष कुबेर जी की आरती,जो कोई नर गावे, स्वामी जो कोई नर गावे।
कहत प्रेमपाल स्वामी,मनवांछित फल पावे॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥

।।इति श्री कुबेर जी आरती समाप्त।।

Shri Kuber Ji Ki Aarti in English script

Om jai yaksh Kuber hare, Swami jai yaksh jai yaksh Kuber hare।
Sharan pade bhagaton ke, bhandaar Kuber bhare॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Shiv bhakton mein bhakt Kuber bade,Swami bhakt Kuber bade।
Daity daanav maanav se, kai kai yuddh lade॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Swarn sinhaasan baithe,sir par chhatr fire, Swami sir par chhatr fire।
Yogini mangal gaavain, Sab jay jaykar karein॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Gada trishool haath mein,shastr bahut dhare, Swami shastr bahut dhare।
Dukh bhay sankat mochan, Dhanush tankaar kare॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Bhaanti bhaanti ke vyanjan bahut bane,Swami vyanjan bahut bane।
Mohan bhog lagaave , Saath mein udad chane॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Bal buddhi vidya daata,ham teri sharan pade, Swami ham teri sharan pade।
Apane bhakt janon ke, saare kaam sanvaare॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Mukut mani ki shobha, motiyan haar gale, Swami motiyan haar gale।
Agar kapoor ki baati, ghee ki jot jale॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

Yaksh Kuber ji ki aarati jo koi nar gaave, Swami jo koi nar gaave।
Kahat Premapaal Swami, manavaanchhit fal paave॥
Om jai yaksh Kuber Hare….॥

।।Thus Shri Kuber Ji Ki Aarti Ends।।

ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे,स्वामी जै यक्ष जै यक्ष कुबेर हरे।
शरण पड़े भगतों के,भण्डार कुबेर भरे॥
ऊँ जै यक्ष कुबेर हरे…॥
Shri Kuber Ji

आगे पढ़िए कुबेर चालीसा

1.चालीसा संग्रह -९०+ चालीसायें
2.आरती संग्रह -१००+ आरतियाँ

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Happy to See you here!😀

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः