Join Adsterra Banner By Dibhu

आ चल के तुझे मैं लेके चलूँ…हर इंसान के बचपन का सपना

0
(0)

आ चल के तुझे मैं लेके चलूँ…

कितनी यादें जुड़ी होंगी इस गाने से कितने सारे हिंदुस्तानियों की | बचपन के सारे सुने हुए गीतों मे से ये गाना अपनी अलग ही पहचान रखता है| एक सुखद एहसास है ये बचपन का, जहाँ सही में लगता था कि दुनिया में सब कुछ सुंदर होगा| कितनी भी लड़ाई हुई हो दोस्तों से या भाई, बहन से ये गाना सुनते ही सबके मन पिघल जाते थे| ये गाना हमारे बालक मन को प्रकृति के प्रेम डालने वाला साबित हुआ| शहर से आकर गाँव की हरियाली में मन ही मन ये गाना गुनगुननता रहता था| सारी हरियाली सुंदर प्रतीत होती थी| एक बार प्रकृति की हरियाली की गोद में पहुँचने के बाद कोई सोच, कोई चिंता नही रह जाती थी|

पिता का प्यार अपने बच्चे के लिए इस गाने में खूब झलकता है | हर बाप की ख्वाहिश होती है, अपने बच्चे को ऐसी ही दुनिया देने की जहाँ प्यार ही प्यार पले……

कैसी भी परेशानी हो , कैसी भी चिंता हो इस गाने को सुनते ही एक बार के लिए वो भी हार मान लेती है| किशोर दा की अमर आवाज़ में ये गाना आज भी करोड़ो लोगों के मन को छू लेता है…..

गाने के बोल :

आ चल के तुझे मैं लेके चलूँ, एक ऐसे गगन के तले
जहाँ ग़म भी ना हो, आँसू भी ना हो, बस प्यार ही प्यार पले

सूरज की पहली किरण से, आशा का सवेरा जागे
चंदा की किरण से धूलकर, घनघोर अंधेरा भागे
कभी धूंप खिले, कभी छाँव मिले, लंबी सी डगर ना खले

जहाँ दूर नज़र दौड़ाए, आज़ाद गगन लहराये
जहाँ रंगबिरंगे पंछी, आशा का संदेसा लाये
सपनों में पली, हँसती वो कली, जहाँ शाम सुहानी ढले

सपनों के ऐसे जहां में, जहाँ प्यार ही प्यार खिला हो
हम जा के वहा खो जाये, शिकवा ना कोई गीला हो
कही बैर ना हो, कोई गैर ना हो, सब मिल के यूँ चलते चले

Lyrics: 

Aa chal ke tujhe mai le ke chalu, ik aise gagan ke tale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale

Aa chal ke tujhe mai le ke chalu, ik aise gagan ke tale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale
Ik aise gagan ke tale

Suraj kee pehlee kiran sey, aasha kaa savera jage – (2)
Chanda kee kiran sey dhul kar, ghanghor andhera bhage – (2)
Kabhee dhup khile kabhee chhav mile, lambee sedagar naa khale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale
Ik aise gagan ke tale

Jahan dur najar daud aaye, aajad gagan laharaye laharayee – (2)
Jahan rang birange panchhee, aasha kaa sandesa laye – (2)
Sapno me palee hansatee ho kalee, jahan sham suhanee dhale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale
Ik aise gagan ke tale

Sapno ke aise jahan me jahan pyar hee pyar khila ho
Ham ja ke vaha kho jaye shikuva naa koyee ghila ho
Kahee bhair naa ho koyee ghair naa ho, sab milke chalte chale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale
Ik aise gagan ke tale

Aa chal ke tujhe me leke chalu, ik aise gagan ke tale
Jahan ghum bhee naa ho aansu bhee naa ho, bas pyar hee pyar pale
Ik aise gagan ke tale

Listen to the Song:

 

Facebook Comments Box

How useful was this post?

Click on a star to rate it!

We are sorry that this post was not useful for you!

Let us improve this post!

Tell us how we can improve this post?

Dibhu.com is committed for quality content on Hinduism and Divya Bhumi Bharat. If you like our efforts please continue visiting and supporting us more often.😀
Tip us if you find our content helpful,


Companies, individuals, and direct publishers can place their ads here at reasonable rates for months, quarters, or years.contact-bizpalventures@gmail.com


Happy to See you here!😀

छोरा गंगा किनारे वाला

About छोरा गंगा किनारे वाला

View all posts by छोरा गंगा किनारे वाला →

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

धर्मो रक्षति रक्षितः