Dibhu.com

Category Archives: Ethinc & religious

श्री राम जी के पूर्वजों की वंशावली

श्री राम जी के पूर्वजों की वंशावली श्री राम के दादा परदादा का नाम क्या था? कभी सोचा है की प्रभु श्री राम के दादा परदादा का नाम क्या था? नहीं तो जानिये- 1 – ब्रह्मा जी से मरीचि हुए, 2 – मरीचि के पुत्र कश्यप हुए, 3 – कश्यप के पुत्र विवस्वान थे, 4 … Continue reading श्री राम जी के पूर्वजों की वंशावली

ॐ is the Lock and the Key

||ॐ सबदही ताला सबदही कुंची सबदही सबद भया उजियाला कांटा सेती कांटा षुटे कुंची सेती ताला सिद्ध मिले तो साधिक निपजे, जब घटी होय उजाला || (ॐ is a word. ॐ is a lock. ॐ is the key. This word is divine light. Like the thorn pierced in one’s toe is removed using a thorn … Continue reading ॐ is the Lock and the Key

राघवयादवीयम्-अनुलोम विलोम काव्य

क्या ऐसा संभव है कि जब आप किताब को सीधा पढ़े तो रामायण की कथा पढ़ी जाए और जब उसी किताब में लिखे शब्दों को उल्टा करके पढ़े तो कृष्ण भागवत की कथा सुनाई दे। कांचीपुरम के 17वीं शदी के कवि वेंकटाध्वरि रचित ग्रन्थ “राघवयादवीयम्” ऐसा ही एक अद्भुत ग्रन्थ है। इस ग्रन्थ को  ‘अनुलोम-विलोम काव्य’ भी … Continue reading राघवयादवीयम्-अनुलोम विलोम काव्य

श्री विन्ध्येश्वरीस्तोत्रं

निशुम्भ-शुम्भ मर्दिनीं, प्रचन्ड मुन्ड खन्डिनीं ।वने रणे प्रकशिनीं, भजामि विन्ध्यवासिनीम् ॥ त्रिशुल – मुन्डधारिणीं, धराविघाहारिणीम्।गृहे – गृहे निवासिनीं, भजामि विन्ध्यवासिनीम्॥ Booking.com दरिद्र्थ – दुःख हारिणीं, सदा विभूतिकारिणीम्।वियोगशोक – हारिणीं, भजामि विन्ध्यवासिनीम्॥ लसत्सुलोत – लोचनीं, जने सदा वरप्रदाम्।कपाल – शूल धारिणीं, भजामि विन्ध्यवासिनीम्॥ कराब्जदानदाधरां, शिवां शिवप्रदायिनीम्।वरा – वराननां शुभां, भजामि विन्ध्यवासिनीम्॥ कपीन्द्र – जामिनीप्रदां, त्रिधास्वरूपधारिणीम्।जले – … Continue reading श्री विन्ध्येश्वरीस्तोत्रं

error: Content is protected !!